राहगीरों के लिए खुला रोहतांग दर्रा, लाहुल के किसानों ने ली राहत की सांस; वाहनों की बहाली तीन दिन में
April 25th, 2020 | Post by :- | 146 Views

प्रदेश सरकार ने कुल्लू मनाली में फंसे किसानों बागवानों को राहत दे दी है। कृषि मंत्री डॉ. रामलाल मार्कंडेय की अध्यक्षता में व बीआरओ के अधिकारियों की मौजूदगी में आज 20 टैक्सियों में 120 लोगों ने घरों का रुख किया। आज पहले दिन ट्रायल के तौर पर इन लोगों को भेजा है। ट्रायल सफल रहा तो कल से रूटीन में लोगों की आवाजाही शुरू हो जाएगी। हालांकि इन लोगों को राहनीनाला से रोहतांग टॉप तक तीन किलोमीटर का सफर पैदल तय करना होगा। लेकिन दर्रा बहाल होते ही लोग मनाली से सीधे वाहनों में लाहुल पहुंच सकेंगे।

आज सुबह छः बजे लोगों का काफिला मनाली से निकला। लोग सात बजे कोठी पहुंचे, जहां विभागीय टीम द्वारा सभी के स्वास्थ्य की जांच की गई। प्रशासन द्वारा मनाली के कोठी व लाहुल के कोसकर में स्वास्थ्य टीम तैनात की गई है, जो रोहतांग दर्रे को पैदल पार करने वालों के स्वास्थ्य की जांच की जा रही है।

मजदूर साथ लेकर न जाएं

कुल्लू मनाली में फ़ंसे लाहुल के किसानों को रोहतांग दर्रे से होते हुए घाटी में भेजा जा रहा है। आज पहले दिन सौ से अधिक लोगों को भेजा गया है। घाटी में पहुंचने से पहले किसानों बागवानों की कोठी व कोकसर में स्वास्थ्य जांच की जा रही है। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वो संयम बरतें। सरकार उनकी समस्या को लेकर गम्भीर है। सभी को समय पर घर पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। लोगों से आग्रह है कि वो अपने साथ मजदूरों को न ले जाएं। –डॉ. रामलाल मार्कंडेय, कृषि मंत्री।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।