झगड़ा होने पर बेटी संग पटियाला से पैदल मायके पहुंच गई महिला, मां ने दिखाई समझदारी पहुंचाईं अस्पताल
April 22nd, 2020 | Post by :- | 248 Views

कोरोना संक्रमण के प्रति लोगों की जागरूकता का एक उदाहरण नाहन में देखने को मिला। जब पंजाब के पटियाला से नाहन मायके पहुंची बेटी को मां ने घर में आने से पहले अस्पताल जाकर चेकअप करने की नसीहत दी। साथ ही मां ने एक जिम्मेवार नागरिक का फर्ज निभाते हुए बेटी व दोहती के आने की सूचना कच्चा टैंक पुलिस को दी। फिर जिला प्रशासन ने 108 एंबुलेस के माध्यम से मां-बेटी को क्वांरटाइन किया।

मामला नाहन शहर की वाल्मीकि बस्ती से जुड़ा हुआ है। पता चला है कि कि बेटी के घर में कोई क्लेश चल रहा था, जिससे दुखी होकर महिला अपने मायके नाहन आ पंहुची। ससुराल के क्लेश से दुखी होकर महिला अपनी बेटी के साथ चार दिन पैदल चलकर पंजाब के पटियाला से नाहन मायके पहुंची। रात साढ़े 12 बजे के आसपास पटियाला से महिला अपनी बेटी के साथ पहुंची थी।

प्रारंभिक जानकारी में पुलिस को पता चला कि दोनों ही 18 अप्रैल को पैदल ही नाहन के लिए चलना शुरू हुई थी। चूंकि वहां बेटी के साथ ससुराल में घरेलू हिंसा हो रही थी। यही कारण रहा हो कि महिला अपनी बेटी को लेकर वापस आ गई। 38 साल की महिला के पति की मौत हो चुकी है। वह बेटी के साथ मायके पहुंची है। जिला सिरमौर प्रशासन व पुलिस को परिवार ने इस तरह का उदाहरण पेश कर प्रभावित किया है।

उपायुक्त डॉ. आरके परुथी ने बताया कि सूचना मिलने के बाद तुरंत ही मेडिकल टीम कच्चा टैंक पहुंची। इसके बाद 108 की मदद से महिला को बेटी सहित क्वारंटाइन किया गया है। 24 घंटे तक इंस्टीटयूशनल क्वारंटाइन में ही रहना होगा। दोनो के सैंपल लेने के बाद अगर रिपोर्ट नेगेटिव आती है, तो महिला को बेटी समेत होम क्वारंटाइन कर दिया जाएगा। उपायुक्त का यह भी कहना है कि पुलिस व प्रशासन को इस तरह से सहयोग मिलता रहेगा। तो लाजमी तौर पर कोविड-19 संकट से उबरने में सरकार को मदद मिलेगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।