नालागढ़ की पांच और पंचायतें सील, आदेश जारी
April 6th, 2020 | Post by :- | 196 Views

नालागढ़ की पांच और पंचायतों को सील कर दिया गया है। नंदपुर, मझोली, भोगपुर, भटोलीकलां और बरोटीवाला पंचायतों को सील कर दिया गया है। जिला दंडाधिकारी केसी चमन ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। शनिवार को तीन कोरोना पॉजिटिव मामले आने के बाद बीते दिन प्रशासन ने नालागढ़ से दभोटा और नालागढ़ से बघेरी व नालागढ़ से खेड़ा तक क्षेत्र सील कर दिया था। नालागढ़-रामशहर मार्ग पर मुस्लिम समुदाय के 88 लोग लेबर हॉस्टल के क्वारंटीन केंद्र में रखे गए थे। 46 लोगों के सैंपल लिए गए थे। इनमें 3 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इसके बाद प्रशासन ने नालागढ़ को सील कर दिया था। फार्मा, साबुन और सैनिटाइजर बनाने वाले उद्योगों से जुड़े वाहनों और सरकारी सेवाओं के वाहनों की ही छूट है।

वहीं सोमवार को नाहन मेडिकल कॉलेज में 15 जमातियों के कोविड-19 सैंपल लिए गए हैं। निजामुदीन से लौटे 35 जमातियों को पांवटा साहिब में क्वारंटीन किया गया थ। सैंपल लेने के बाद पूरे मेडिकल कॉलेज को सैनिटाइज किया गया है।
नालागढ़ में जमातियों के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद नंगल में भी खतरे का अलार्म बज गया है। पॉजिटिव मिले तीनों जमाती नालागढ़ से नंगल गए थे। इनमें एक तो नंगल शहर में ही रुका था, जबकि दो अन्य पलासर नंगल मस्जिद में रुके थे। शुरुआती जांच में यह भी खुलासा हुआ है कि तीनों यहां करीब तीन से चार किलोमीटर के दायरे में धर्म प्रचार के नाम पर अलग-अलग जगह घूमे भी हैं।

प्रशासन ने इसकी जानकारी नंगल में भी दे दी है। नालागढ़ में कोरोना पॉजिटिव पाए गए तब्लीगी जमात के तीनों लोगों के नंगल मस्जिद में जाने का खुलासा हुआ है। पॉजिटिव पाए गए जमातियों में से एक 18 मार्च को गाजियाबाद से नालागढ़ पहुंचा था। यहां तीन दिन रुकने के बाद वह पलासर नंगल मस्जिद चला गया। यहां तीन-चार किमी के दायरे में धर्म प्रचार करने के लिए घूमता रहा।

एक अन्य संक्रमित दो दिन नालागढ़ में गुजारने के बाद नंगल चला गया और यहां नंगल शहर के बीचोंबीच बनी मस्जिद में रुका था। तीसरा जमाती भी नालागढ़ में तीन दिन गुजारने के बाद नंगल चला गया। उपायुक्त केसी चमन ने बताया कि प्रशासन कोरोना से जुड़े मामले के हर अपडेट पर काम कर रहा है। उन्होंने बीबीएन में लोगों को घरों में रहने की सलाह दी है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।