कोरोना की चौथी लहर से सुरक्षा के लिए ऊना में स्वास्थ्य विभाग हुआ चुस्त, लोगों से मास्क नज़रंदाज़ नहीं करने की अपील #news4
April 26th, 2022 | Post by :- | 92 Views

ऊना : देश के महानगरों में क्रोना से संबंधित मामले एक बार फिर से सामने आ रहे हैं, जिसके कारण कोरोना की चौकी लहर की आशंका बढ़ती जा रही है। इसी आशंका को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा सभी राज्यों को गाइडलाइन जारी कर दी गई है। इसके बाद देशभर में राज्य सरकारें कोरोना की चौकी लहर को रोकने के लिए अपने अपने तौर पर जुट गई है। इसी कड़ी में हिमाचल प्रदेश सरकार भी गंभीर प्रयास की दिशा में कार्य कर रही है।  हिमाचल सरकार द्वारा संबंधित दिशा निर्देश मिलने के बाद प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग भी हरकत में आ गया है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना की चौथी लहर को रोकने के लिए हर संभव प्रयास किए जाने का दावा किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए टेस्टिंग और सैंपल की संख्या को बढ़ाने की दिशा में कार्य करना शुरू कर दिया है। विभाग द्वारा शत प्रतिशत वैक्सीन की दोनों डोज का कार्य पूरा किया जाने का भी प्रयास किया जा रहा है, जो लगभग अपने अंतिम चरण में है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग का यह भी कहना है कि कुछ लोग वैक्सीन की दूसरी डोज़ लगवाने के लिए सामने नहीं आ रहे हैं। जोकि ना सिर्फ उन लोगों के लिए गलत हो सकता है, बल्कि समाज के लिए भी ऐसे लोग हानिकारक सिद्ध हो सकते हैं। इसलिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा ऐसे लोगों से वैक्सिंग की दूसरी डोज़ लगवाने के लिए सामने आकर पहल किए जाने की अपील की है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा क्रोना की संभावित चौथी लहर से बचाव के लिए मास्क को अनिवार्य रूप से पहनने की अपील भी की गई है। जबकि सोशल डिस्टेंसिंग का भी यथासभव पालन किए जाने को कहा जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा ज़िले में चयनित स्थानों पर उचित संख्या में स्वास्थ्य कर्मियों की ड्यूटी अभी लगाई जा रही है ताकि लोगों को किसी प्रकार की परेशानी ना हो ।

देश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना की चौथी लहर की आशंका के मद्देनजर एक तरफ जहां वैक्सीन की डबल डोज़ का कार्य शत प्रतिशत किए जाने का लक्ष्य रखा गया है और उसी दिशा में तेजी से काम किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग द्वारा 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों को बूस्टर डोज लगाए जाने का कार्य तेजी से किया जा रहा है। जबकि  फ्रंटलाइन वर्करस को भी बूस्टर डोज लगाई जा रही है। इन फ्रंट लाइन वर्कर्स में स्वास्थ्य कर्मियों के साथ साथ पुलिसकर्मी, मीडिया कर्मी व अन्य सभी कर्मचारी जो फ्रंटलाइन वर्कर के तौर पर जनता के बीच रहकर काम कर रहे हैं, भी शामिल है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बूस्टर डोज जिले के क्षेत्रीय अस्पताल और प्रमुख सरकारी अस्पताल में नियमित तौर पर लगाई जा रही है। इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य विभाग द्वारा बूस्टर डोज लगाए जाने के लिए जिले के अन्य क्षेत्रों में चिकित्सा केंद्रों को भी चयनित किया गया है, क्रमवार रूप से एक निर्धारित दिन पर बूस्टर डोज लगाए जाने का कार्य किया जा रहा है।

निश्चित रूप से स्वास्थ्य विभाग अपनी तरफ से क्रोना की चौथी लहर को रोकने के लिए प्रयासरत है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के इस प्रयास को सफल बनाने और समाज को सुरक्षित रखने के लिए प्रदेश के नागरिकों को भी क्रोना संबंधित गाइडलाइन का पालन करने और वैक्सीन व बूस्टर डोज लगाए जाने के लिए आगे आने की पहल करनी होगी।  ताकि हम, हमारा परिवार, हमारा समाज और हमारा देश प्रदेश, कोरोना के इस संकट से समय रहते निपट सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।