भूल जाइए कि इस साल होगी आपकी शादी, करना होगा अगले साल के इस माह का इंतज़ार
April 24th, 2020 | Post by :- | 321 Views

हम सभी इस बात से वाकिफ हैं कि हिंदू धार्मिक ग्रंथों में अक्षय तृतीया, बसंत पंचमी और देव प्रबोधिनी एकादशी को अबूझ मुहूर्त कहा गया है. ऐसे में बहुत सारे कुंवारे इन शुभ दिनों का बेसब्री से इंतजार करते हैं ताकि इस अबूझ मुहूर्त में विवाह कर सकें लेकिन इस बार ऐसा नहीं होने वाला है. आप सभी को पहले तो यह बता दें कि अक्षय तृतीया को आखातीज भी कहा जाता है और इस दिन शादी, सगाई व अन्य किसी भी शुभ काम के लिए अबूझ मुहूर्त होता है. ऐसे में बिना पंचांग देखे कभी भी शुभ काम किया जा सकता है.

वहीं आमतौर पर हर साल अक्षय तृतीया पर शादियां होती हैं लेकिन साल 2020 में अक्षय तृतीया 26 अप्रैल, रविवार को है और इस साल ऐसा नहीं होने वाला है. इस साल कोरोना के कारण हर कोई अपने-अपने घर में बंद है और भारत में लॉकडाउन चल रहा है. इसी के वजह से अक्षय तृतीया पर शहनाई नहीं बज सकेगी. ऐसे में शादी करने वालों को अब साल 2021 में आने वाली अक्षय तृतीया का इंतजार करना होगा. जी हाँ, आप सभी को पहले तो यह बता दें कि मई के महीने में भी शादी के बंधन में बंधने के लिए 16 मुहूर्त हैं और उसके बाद अगले साल 2021 में जनवरी, फरवरी, मार्च और 24 अप्रैल तक शादी का कोई भी शुभ मुहूर्त नहीं हैं. जी हाँ, वहीं साल 2021 का पहला सावां 25 अप्रैल को है और 16 फरवरी बसंत पंचमी को भी अबूझ मुहूर्त रहेगा.

ऐसे में साल 2020 में लगभग 5 महीने 1 जुलाई से 24 नवंबर तक देव शयन करेंगे और 1 जुलाई को भगवान श्री हरि विष्णु क्षीरसागर में शयन के लिए जाएंगे. ऐसे में इस दिन देवशयनी एकादशी का शुभ दिन है और फिर वो 25 नवंबर को देवोत्थान एकादशी पर जागेंगे. यानी इस दौरान कोई भी मांगलिक काम नहीं होगा और साल 2020 में अधिक मास रहेगा इसलिए चातुर्मास भी 4 महीने की जगह 5 महीने रहने वाला है. यही वजह है कि अब इस साल होने वाली शादियां भूल जाइए और अगले साल भी 25 अप्रैल तक का इंतज़ार कीजिए.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।