नगरोटा बगवां में चार दिवसीय बैडमिंटन प्रतियोगिता का समापन
September 3rd, 2019 | Post by :- | 148 Views

खेलें हमें स्वस्थ रखने के साथ-साथ हमारे चरित्र का निर्माण भी करती हैं। यह उद्गार युवा सेवाएं, खेल विभाग, वन एवं परिवहन मंत्री, गोविन्द ठाकुर ने आज नगरोटा बगवां में नगरोटा बगवां बैडमिंटन क्लब की ओर से आयोजित चार दिवसीय बैडमिंटन प्रतियोगिता के समापन अवसर पर खिलाडिय़ों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए।
गोविन्द ठाकुर ने कहा कि खेलों से जहां हम युवा पीढ़ी को नशे के नरक में जाने से बचा सकते हैं वहीं खेलें युवाओं को सभ्य भी बनाती हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ग्रामीण स्तर तक सभी प्रकार की बेहतर सुविधाओं के लिए प्रयासरत हैं। खिलाडिय़ों को आगे बढऩे के समान अवसर प्रदान करने के साथ-साथ उनकी प्रतिभा को निखारने के भी प्रयास प्रदेश सरकार कर रही है। सरकार द्वारा खिलाडिय़ों की दैनिक डाइट मनी जोकि पूर्व में 120 रुपए थी, को बढ़ाकर 250 रुपए किया गया है ताकि खिलाड़ी अच्छा भोजन ग्रहण कर सकें। वहीं यह राशि प्रदेश से बाहर जाने वाले खिलाडिय़ों के लिए 400 रुपए प्रदान की जा रही है। सरकारी नौकरियों में खिलाडिय़ों को आरक्षण प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक युवा को खेलों में बढ़-चढ़ कर भाग लेना चाहिए।
वन मंत्री ने युवाओं से आह्वान किया कि वह खेलों के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण की ओर भी आगे बढ़े। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का यह ध्येय है कि यहां के 27 प्रतिशत वन क्षेत्र को बढ़ाकर 35 प्रतिशत किया जाए। इसकी सफलता तभी हो सकती है जब प्रदेश का प्रत्येक व्यक्ति इस ओर आगे बढ़े और जंगलों को आग से बचाने में सभी सामूहिक प्रयास करें। हर व्यक्ति अधिक से अधिक पौधे रोपित करे। प्रदेश सरकार ने ‘एक बूटा बेटी के नामÓ के नाम योजना चलाकर इस मुहिम को आगे बढ़ाया है तथा सरकार ने यह निर्णय लिया है कि हर बच्चे के जन्म पर वन विभाग के माध्यम से 5 पौधे उस परिवार को दिए जायेंगे तथा उनके पोषण के लिए उस परिवार को कहा जाएगा। गोविन्द ठाकुर ने प्रदेशवासियों, विशेष कर युवा पीढ़ी से ट्रैफिक नियमों का पालन करने का भी आग्रह किया ताकि सड़क दुर्घटनाओं को कम किया जा सके। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश एवं उस परिवार की वित्तीय स्थिति में सुधार होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।