हिमाचल में इस दिन से घर बनेंगे पाठशाला और अभिभावक निभाएंगे शिक्षक की भूमिका
April 15th, 2020 | Post by :- | 117 Views

हिमाचल में गुरुवार से घर पाठशाला बनेंगे और अभिभावकों को शिक्षक की भूमिका निभानी होगी। कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रदेश में लॉकडाउन और कर्फ्यू लगने से स्कूल बंद हैं। सरकार ने विद्यार्थियों की पढ़ाई सुचारु रूप से चलाने को समय 10 से 12 वाला, हर घर बने पाठशाला अभियान शुरू किया है। गुरुवार से यह अभियान आधिकारिक तौर पर शुरू किया जाएगा।

पहली कक्षा से कॉलेज स्टूडेंट्स को विशेष ई-लर्निंग प्रोग्राम के माध्यम से पढ़ाया जाएगा। अभियान सफल बनाने को पहली से आठवीं, नौवीं से जमा दो और कॉलेजों के लिए अलग-अलग कमेटियां बनाई गई हैं। रोजाना दो से तीन घंटे तक व्हाट्सऐप, सोशल मीडिया के अन्य माध्यमों से क्लासेज लगाई जाएंगी। पहली से आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों को गुरुवार से सिलेबस से संबंधित सामग्री भेजी जाएगी।

बीते दिनों बच्चों को इस तकनीक से अवगत करवाने के लिए ड्रांइग का काम दिया जा रहा था। प्रारंभिक शिक्षा निदेशक ने बताया कि ई कंटेंट तैयार कर लिया है। व्हाट्सऐप ग्रुप के अलावा वेबसाइट से भी सामग्री अपलोड हो सकेगी। शिक्षकों को रोजाना बच्चों को होमवर्क देना होगा। इसे जांचना भी होगा। बच्चे भी शिक्षकों से प्रश्न पूछ सकेंगे। शिमला स्थित निदेशालय से योजना की मॉनीटरिंग की जाएगी। उधर, नौवीं से कॉलेज स्टूडेंट्स को भी ई कंटेंट भेजने का काम गुरुवार से शुरू होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।