नौणी विश्वविद्यालय में 4 जनवरी से होगी फलदार पौधों की बिक्री #news4
December 21st, 2022 | Post by :- | 137 Views

सोलन : डाॅ. यशवंत सिंह परमार उद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय नौणी में बागवानों के लिए फलदार पौधों की बिक्री 4 जनवरी से पहले आओ पहले पाओ के आधार पर शुरू होगी। इस वर्ष विश्वविद्यालय के मुख्य परिसर और क्षेत्रीय स्टेशनों द्वारा फलों की विभिन्न किस्मों के 2 लाख से ज्यादा पौधे तैयार किए गए हैं। जिन फलदार पौधों की बिक्री होगी उनमें सेब, कीवी, पलम, खुरमानी, आड़ू, अखरोट, चेरी, अनार, नेक्टरिन, परसिमन, पेकननट, अंगूर व नाशपाती आदि शामिल हैं। विश्वविद्यालय के मुख्य परिसर में फल विज्ञान विभाग, बीज विज्ञान और अनुसंधान निदेशालय के अंतर्गत मॉडल फार्म में करीब 115000 पौधे तैयार किए गए हैं।

इसके अलावा हिमाचल के विभिन्न हिस्सों में स्थित विश्वविद्यालय के कृषि विकास केंद्रों (केवीके) और क्षेत्रीय बागवानी अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्रों में भी करीब 92000 पौधे बागवानों के लिए तैयार किए हैं। नौणी विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले सोलन के कृषि विकास केंद्र कंडाघाट, किन्नौर के केवीके शारबो, लाहौल-स्पीति के केवीके ताबो, उद्यानिकी एवं वानिकी महाविद्यालय नेरी (हमीरपुर), शिमला के केवीके रोहड़ू, केवीके चम्बा और क्षेत्रीय बागवानी अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्र बजौरा और मशोबरा में भी उपलब्ध पौधों की बिक्री की जाएगी। बजौरा के क्षेत्रीय स्टेशन को छोड़कर जहां 15 दिसम्बर से बिक्री शुरू हो गई है, अन्य सभी स्टेशनों पर भी पौधे 4 जनवरी से उपलब्ध होंगे।

एक व्यक्ति को मिलेंगे 200 पौधे
निर्णय लिया गया है कि प्रति व्यक्ति 200 पौधों की अधिकतम सीमा के साथ प्रति सेब किस्म के 50 पौधे और कीवी के 10 पौधे उपलब्ध कराए जाएंगे ताकि सभी किसानों को पौधे उपलब्ध करवाए जा सकें। अन्य फलदार पौधों की उपलब्धता के अनुसार बिक्री होगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।