बागवानों को महंगाई का झटका: इस बार दोगुने दामों पर मिलेंगे फलदार पौधे #news4
December 26th, 2021 | Post by :- | 163 Views

सर्दियों के मौसम में लगने वाले फलदार पौधे इस बार 50 फीसदी तक महंगे मिलेंगे। इससे बागवानों को झटका लगा है। विभाग की ओर से तय किए गए दामों में बागवानों को पिछले वर्ष 55 रुपये में मिलने वाला सेब का पौधा 100 रुपये और 100 रुपये में मिलने वाला सेब का पौधा 150 रुपये तक मिलेगा।

पिछले वर्ष 90 रुपये में मिलने वाला कीवी का पौधे इस वर्ष 100 रुपये की कीमत पर मिलेगा। विभाग की ओर से सर्दी में लगने वाले फलदार पौधों के दाम तय कर दिए गए हैं। प्रदेश में विभाग के 90 केंद्रों पर बागवानों को हर प्रकार के पौधे मिलेंगे। बागवानों को यह पौधे सरकार की ओर से तय दामों पर मिलेंगे। हालांकि, बाजार में इन पौधों के दाम ज्यादा हैं। बाजार में सर्दियों में लगने वाले पौधों के दाम 200 रुपये से कम नहीं हैं।

यह हैं फलदार पौधों के दाम
फल                     नई कीमत            पिछली कीमत
सेब (कलमी)            100-150         55-100
सेब (हाई कलर)         125-150         75-100
सेब (फूलदार)            70                    55
चैरी   (कलमी)          120                   100
खुमानी   (कलमी)        70                    55
अखरोट     (कलमी)     120                  100
पेकान नटस (कलमी)     125                  120
आडू   (कलमी)           70                   55
नाशपाती  (बीजू)          60                   50
नाशपाती (कलमी)        100                   90
पलम    (बीजू)           70                    55
पलम     (कलमी)       100                   80
बादाम   (कलमी)         70                    55
अनार   (हवा स्तरीत)     60                     45
कीवी    (कलमी)        100                    90

उद्यान विभाग कांगड़ा के उपनिदेशक कमल शील नेगी ने बताया कि जिले के लोग पालमपुर, गुम्मर, बड़ोह बागवानी केंद्रों से यह फलदार पौधे खरीद सकते हैं। इसके अलावा विकास खंड में बागवानी अधिकारी या सरकार की ओर से पंजीकृत निजी बागवानी नर्सरी में भी यह पौधे उपलब्ध हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।