उर्जा एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि के लिए स्वर्ण प्राशन, मंडी
October 22nd, 2019 | Post by :- | 441 Views

स्वामी पूर्णानंद मैमोरियल आयुर्वेद अस्पताल, मण्डी में आज पुष्य नक्षत्र में स्वर्ण प्राशन की पहली खुराक पिलाई गई। अस्पताल प्रभारी डा. अभिषेक कौशल, पंचकर्मा विशेषज्ञ ने देते हुए बताया कि 0-16 वर्ष तक के बच्चों के सम्पूर्ण स्वास्थ्य जांच के उपरांत 60 बच्चों को स्वर्ण प्राशन की दो बूंद पिलाई गयी । उन्होंने बताया कि अगली खुराक 18 नवम्बर, 2019 को पिलाई जायेगी ।
डा. अभिषेक कौशल बताया कि स्वर्ण प्राषन ड्राप्स शुद्ध घी, शहद, ब्राम्ही, शंखपुष्पी आदि से निर्मित योग है। स्वर्ण भस्म बच्चों के शरीर के प्रत्येक टिस्सु और कोषिकाओं में प्रवेश कर वहां के असंतुलन व विकृति को ठीक करता है। उन्होंने बताया कि यदि इसे पुष्य नक्षत्र के दिन पिलाया जाए तो उसके चमत्कारी लाभ देखने को मिलते हैं । पुष्य नक्षत्र महीने में एक बार आता है, इसलिए पुष्य नक्षत्र में यह ड्राप्स 5 से 7 साल तक पिलाने से शरीर के प्रत्येक अंग-प्रत्यंग की उर्जा एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाती है । शोध के अनुसार मस्तिष्क व आंखों के विकास में स्वर्ण प्राषन का विषेष महत्व है, उसके द्वारा बच्चों में बार-बार होने वाले इंफेक्षन, एलर्जी में लाभ होता है तथा बोलने, सुनने व देखने की शक्ति में भी लाभ मिलता है। अस्पताल में कार्यरत डा. ओम शर्मा व डा. एस.के. शर्मा ने स्वर्ण प्राशन को पहली बार मंडी में आरंभ करने के लिए डा. अभिषेक को बधाई दी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।