किसानों के लिए अच्छी खबर: अब लगवा सकेंगे बोरवेल, करना होगा ये काम #news4
November 9th, 2021 | Post by :- | 246 Views

हमीरपुर : प्रदेशभर के किसान के लिए अब सरकार की ओर से एक अच्छी खबर सामने आ रही है। प्रदेश भर के किसान जो सिंचाई के लिए पानी के संकट से जुझते हैं वे अब दोबारा बोरवेल लगवा सकते हैं। यहां बता दें कि राज्य में 22 अक्तूबर 2018 के बाद से बोरवेल लगवाने पर प्रतिबंध था, जो कि अब हट गया है। हाईकोर्ट ने ग्राउंड वाटर रेगुलेशन, कंट्रोल एंड मैनेजमेंट एक्ट 2005 के तहत बनाए गए नियमों और नीतियों का अवलोकन करने के आदेश विभाग को दिए थे। इनका अध्ययन करने के बाद विभाग ने इन नियमों में संशोधन किया है। अब दोबारा से किसानों को बोरवेल लगाने की सुविधा दे दी गई है। प्रदेश ग्राउंड वॉटर अथारिटी ने 16 अगस्त 2021 से इसके लिए नोटिफिकेशन जारी कर दी है।

बोरवेल लगवाने के लिए किसानों को अब आॅनलाइन आवेदन करना होगा। इसके साथ ही किसान पूरे वर्ष भर में कभी आवेदन कर सकते हैं। इसके पूर्व आॅफलाइन आवेदन भी स्वीकार किए जाते थे, परंतु इस बार सिर्फ आॅनलाइन आवेदन ही मान्य होंगे। गत वर्ष जिन भी किसानों ने ऑफलाइन आवेदन किया है, उन्हें भी जमा की हुई राशि वापस की जाएगी और उन्हें भी दोबारा ऑनलाइन आवेदन करना होगा। पिछले वर्ष किसानों ने पांच-पांच हजार रुपये की राशि बोरवेल लगवाने के लिए ड्राफ्ट के रूप में जमा करवाई थी। लेकिन बोरवल पर रोक के कारण किसानों के बोरवेल नहीं लग पाए हैं। ऐसे में ग्राउंड वॉटर अथाॅरिटी विभाग इन किसानों के रुपये भी वापस कर रहा है, जिससे यह किसान भी ऑनलाइन आवेदन कर सकें।

कोई भी व्यक्ति खेती, उद्योग व अन्य कार्यों के लिए बोरवेल लगवा सकता है। बोरवेल लगाने से मैदानी क्षेत्रों के किसानों की पानी की समस्या हल हो जाती है और किसान समय समय पर अपनी फसलों को पानी उपलब्ध करवा सकता हैं। इससे मैदानी क्षेत्रों के सैकड़ों किसानों को लाभ मिलेगा। प्रदेश ग्राउंड वाटर अथाॅरिटी सचिव हेमंत तनवर ने बताया कि किसानों के लिए दोबारा बोरवेल लगाने की सुविधा दे दी गई है। इससे संबंधित अधिसूचना 16 अगस्त 2021 को जारी कर दी गई है। किसान एचपीआईपीएच की वेबसाइट पर जाकर अमरजिन डॉट कॉम ऑप्शन पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।