गुहार – कोरोना फैलने से बचा लो सरकार
May 10th, 2020 | Post by :- | 196 Views

हिमाचल के गांव उल्लैहडीया ,धमोता मिलबा में पंजाब के जिला होशियारपुर और गुरदासपुर के लोगो का अवैध शराब पीने के लिए आने का सिलसिला जारी,

जिससे लोगों मे कोरोना फैलने का भय बढ़ गया है

मिलबा, धमोता,खानपुर, उल्लैहडिया के अवैध शराब के कारोबारियों को नही कोई लॉकडाउन और कर्फ्यू की परवाह

शाम 6 बजे के बाद इन गाँवो में बिना रोक टोक पंजाब से हिमाचल में अवैध शराब पीने वाले आ रहे सैकड़ों लोग

इंदौरा,10मई (रमन कुमार) कोरोना महामारी से बचने के लिए पूरे देश मे लॉक डाउन है l इसी के चलते हिमाचल प्रदेश में भी बिना आज्ञा बाहरी राज्य से आने बाले लोगो पर पूरी तरह से प्रतिबंध है l बिना पास से किसी को भी प्रदेश की सीमा के अंदर प्रवेश नही करने दिया जा रहा है। जिला कांगड़ा के उपमंडल इंदौरा का मंड क्षेत्र भी पंजाब के जिला होशियारपुर की सीमा के साथ लगता है और इस क्षेत्र में कई जगह पुलिस के 24 घण्टे नाके लगाए गए है और कई पंजाब से आने बाले रास्तो को सड़कों पर मिट्टी डालकर ओर कई जगह वैरीगेट लगाकर बन्द कर दिया गया है। इतनी प्रतिबंधी होने के बाबजूद भी मंड क्षेत्र में घर बनाकर रह रहे अवैध शराब बेचने का कारोबार करने बाले समुदायविशेष के लोग बाहरी राज्यो के लोगो को अपने घरों में बुलाकर अवैध शराब बेचने के कारोबार को अंजाम दे रहे है।

देर शाम चोर रास्तो से आकर इन गाँवो में शराब पीने आने वाले लोगो को देखना आम बात हो गई है। उलेहडिया गाँव के निबासी एबं पूर्व प्रधान विनोद शर्मा, उपप्रधान परमजीत सिंह ,दर्शन मन्हास और डॉक्टर जोगिंदर पाली ने बताया कि उनके अकेले उलेहडिया गाँव मे ही सुमदाय विशेष के चार लोग अवैध शराब तैयार कर बेचने का काम करते है l जिनमे गग्गा,निक्का,चिड़ी ओर धरमिंदर प्रमुख है। इन लोगो के पास अधिकतर पंजाब के लोग शराब पीने के लिए आते है l

उन्होंने बताया कि कोरोना के भय के चलते इन सबको एक दिन उल्लैहडिया पंचायत घर मे बुलाया था ताकि इनके पास पंजाब से आने बाले लोगो पर प्रतिबंध लगाया जा सके । बुलाने पर मात्र दो लोग ही पंचायत में आए और दो नही आए l इनमे से दो ने कुछ दिन काम बंद किया और दो अन्य लोगो को लगातार शराब बेचते देख फिर बेचने को बन्द कर बैठे दो अन्य लोगो ने भी काम को शुरू कर दिया । लोगो ने बताया के शाम 6 बजे के बाद खानपुर रेल्बे धुस्सी से मात्र कुछ ही दूरी पर घर बनाकर रह रहे यह लोग अपने घरों में खुलेआम पंजाब के लोगो को शराब बेच रहे है l यही नही राधा स्वामी सत्संग घर उलेहडिया के सामने घर बनाकर रह रहे लोग भी अपने घर से पीछे की तरफ से एक अस्थाई रास्ता जो पैदल मार्ग के लिए है l पंजाब से आने बाले लोगो ने तैयार कर दिया है इस रास्ते से भी रोजाना देर शाम सैकड़ों लोग इनके घरो में ही शराब पीने आ रहे है और यह लोग उनको आने से भी मना न कर खुद तो चांदी कूट रहे है पर क्षेत्र की जनता को कोरोना के भय में डाल रहे है।

वहीं मिलवां शराब के ठेके के बिल्कुल पीछे घर बनाकर रह रहे एक सुमदाय विशेष के लोगो के घरो में भी पंजाब क्षेत्र में पड़ते गांव मानसर, मोतला , सनीयल सहित गुरदासपुर जिले में पड़ते चक्की दरिया के पार से भी पैदल, मोटरसाइकिल और साईकलो पर मिलवां पंचायत में ही पड़ते व्यास दरिया के साथ लगते गाँव धमोता के मंड एरिया से बने अस्थाई रास्तो से बेरोक बेटोक लोग मिलवां स्थित इन अवैध शराब बेचने बाले लोगो के घरो में आ रहे है l कुछ तो शराब पीकर और कुछ बोतलों और प्लास्टिक की थालियों आदि में शराब भरकर खरीदकर ले जा रहे है l

आज देर शाम जब पत्रकारो ने गांव धमोता में जाकर देखा तो पंजाब के कई लोग मोटरसाइकिलो पर मिलबा के एक विशेष सुमदाय से सम्बन्ध रखने वाले एक व्यक्ती के घर मे कई लोग शराब पीकर आते और साथ लेकर जाते देखे गए ।

धमोता गांव के युवाओं ने बताया कि देर शाम उनके गांव की औरतों को घरो से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है क्योकी सैकड़ों की संख्या में पंजाब के लोग कच्चे रास्तो से हिमाचल में प्रवेश करके हमारे गाँव के लोगो की जिंदगी के लिये खतरा बन रहे है। कई बार जब गाँव के लोग इन पंजाब के लोगों को गाँव में आने से मना करते है तो कई बार तो यह लोग गांव के युवाओं से उलझ पड़ते है और कई बार तो अवैध शराब के कारोबारी भी अपना कारोबारों कम होता देख स्थानीय लोगो के साथ बहस करने लग पड़ते है।

स्थानीय जनता ने प्रेस के मध्यम से प्रशाशन से अपील की है के उल्लैहडिया, मिलवां, धमोता, बसंतपुर, गगवाल ,बरोटा आदि गांवो में इन लोगो के पास पंजाब से आ रहे लोगो के आने पर प्रतिबंध लगाया जाए और अगर नही मानते है तो पंजाब से शराब पीने आ रहे लोगो के साथ साथ इन गाँवो में अवैध शराब का कारोबार करने बाले कारोबारियों पर भी करवाई की जाए ताकि कोरोना से बचा जा सके l

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।