खेल संरचना को मजबूत करने पर बल : गोविंद सिंह ठाकुर
September 20th, 2019 | Post by :- | 176 Views

युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में खेलों को बढ़ावा देने की दिशा में अनेक प्रयास किए जा रहे हैं। जहां नए खेल परिसरों का निर्माण किया जा रहा है, वहीं पुराने खेल परिसरों को विकसित करने का कार्य किया जा रहा है ताकि विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों की खेल प्रतिभाओं को उभारने में मदद मिले। खेल मंत्री ने कहा कि वर्ष 2019-20 के लिए विभिन्न खेल परिसरों के निर्माण के लिए प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृति प्राप्त हुई है। इनमें धर्मशाला में केन्द्रीय प्राथमिक पाठशाला के समीप पासु में खेल मैदान के निर्माण के लिए पांच लाख रुपये, कांगड़ा जिला के वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला रजियाणा के खेल परिसर के लिए 2.70 लाख रुपये, कांगड़ा जिला के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला दधाम्भ के ख्ेाल मैदान के लिए 5.50 लाख रुपये, कांगड़ा जिले की रक्कड़ तहसील के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला गरली में बास्केटबॉल व बैडमिंटन कोर्ट के निर्माण के लिए 7.50 लाख रुपये की राशि को स्वीकृति प्रदान की गई है। इसी प्रकार, बिलासपुर जिले के राजकीय माध्यमिक पाठशाला बरोटा के खेल मैदान के लिए 2.50 लाख, राजकीय उच्च विद्यालय डाबला के खेल मैदान के लिए 1.35 लाख, घुमारवी खण्ड की राजकीय उच्च पाठशाला भपराल के खेल परिसर के लिए 2.90 लाख, कुल्लू जिले की ग्राम पंचायत गाहर में खेल मैदान के निर्माण के लिए चार लाख, सरसाई सामुदायिक खेल मैदान के विकास के लिए नौ लाख, कुल्लू जिले के पांगा स्थित स्थिति गाल्डन तरगेलिंग गोम्पा के समीप खेल मैदान के लिए छ: लाख की राशि स्वीकृत की गई है। सोलन जिले के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला गैन्टी में खेल मैदान के निर्माण के लिए चार लाख, दिग्गल पाठशाला खेल मैदान के लिए दो लाख, नालागढ़ उपमण्डल के रावमापा बघेरी के खेल मैदान को विकसित करने के लिए 10 लाख, रावमापा लोधीमाजरा खेल मैदान के लिए 4.70 लाख, बिलासपुर जिले के रावमापा कलाड़ के खेल मैदान को विकसित करने के लिए 10 लाख, हमीरपुर के राजकीय उच्च पाठशाला बडैहर के खेल मैदान के लिए 10 लाख, शिमला की मडावग पाठशाला के खेल मैदान के लिए सात लाख तथा मण्डी के तेबण गांव में खेल मेदान के लिए आठ लाख रुपये की वित्तीय स्वीकृतियां प्रदान की गई हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।