Hair Care Tips : इन 5 आदतों को अपने रुटीन में शामिल करने से बालों का झड़ना 60% तक हो जाएगा कम
October 29th, 2019 | Post by :- | 143 Views

सर्दियां आते ही स्किन और हेयर से जुड़ी हुई कई समस्याएं भी सामने आने लगती हैं। इन समस्याओं में सबसे पहले नाम आता है हेयर फॉल यानी बालों के झड़ने का। कई बार बाल झड़ने की समस्या इतनी ज्यादा बढ़ जाती है, कि हमें लगने लगता है कि कहीं हम गंजे न हो जाए। ऐसे में हमें तनाव होने लगता है और इस तनाव की वजह से भी बाल झड़ने लगते हैं, अगर आपको भी यह परेशानी हो रही है, तो हम आपको कुछ टिप्स बता रहे हैं, जिससे आपको इस समस्या से काफी हद तक निजात मिलेगी-

गर्म पानी से न धोएं बाल 
बालों को धोने के लिए हल्का गर्म या गुनगुना पानी यूज करने से स्कैल्प में मौजूद पोर्स यानी रोमछिद्रों को खोलने में मदद मिलती है। बालों को धोते वक्त आखिर में बालों को ठंडे पानी से धोएं ताकि स्कैल्प को पोर्स बंद हो जाएं।

हेयर प्रॉडक्ट यूज करने का सही तरीका
हेयर कंडिशनर को हमेशा बालों के सिरों पर लगाएं क्योंकि यही वो हिस्सा होता है, जो सबसे ज्यादा डैमेज होता है। आप चाहें तो बालों के लिए डीप कंडिशनिंग ट्रीटमेंट भी यूज कर सकती हैं और इसके बेहतर फायदों के लिए हेयर मास्क भी लगा सकती हैं।

हीट स्टाइलिंग से पहले बालों को करें प्रोटेक्ट
अगर आप बालों को स्टाइल करने के लिए हीट स्टाइलिंग इक्वप्मेंट्स जैसे स्ट्रेटनर का इस्तेमाल करती हैं तो बालों पर पहले हीट प्रोटेक्टेंट प्रॉडक्ट या हेयर सीरम लगा लें ताकि बालों को हीट से होने वाले नुकसान से बचाया जा सके। स्टाइलिंग टूल्स को हमेशा लो या मीडियम हीट पर यूज करें ताकि बालों में स्पिल्ट एंड्स न हो।

सोते वक्त बालों का रखें खास ख्याल
ध्यान रखें कि आप सोते वक्त जिस तकिए का इस्तेमाल कर रही हैं उसका पिलो कवर सिल्क मटीरियल का हो। ऐसा करने से बालों को स्मूथ सर्फेस मिलगा और बाल डैमेज भी नहीं होंगे।

हफ्ते में दो बार बालों में तेल लगाएं 
हम में से ज्यादातर लोग बालों में तेल लगाना पसंद नहीं करते। उन्हें लगता है कि ऐसा करने से वो तेलू या चंपू लगेंगे, लेकिन ऐसा नहीं है आप रात में तेल लगाकर सो सकते हैं, सुबह उठकर हेयर वॉश कर लीजिए। हेयर फॉल के लिए बालों में तेल न लगाना भी एक बड़ा कारण है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।