हरियाणा का नकली सीबीआइ अफसर श्रीरेणुकाजी में गिरफ्तार #news4
July 8th, 2022 | Post by :- | 88 Views

नाहन : सिरमौर जिले के राजगढ़, श्रीरेणुकाजी व हरिपुरधार क्षेत्र में लोगों को नकली सीबीआ अफसर बनकर पुलिस में भर्ती कराने के हरियाणा राज्य के जिला पंचकूला के हेमराज को श्रीरेणुकाजी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। यह व्यक्ति खुद को सीबीआइ अफसर बता लोगों से पैसे ऐंठ रहा था। यह व्यक्ति अपना खुद का नाम भी खुशहाल चंद बताता था। बता दें कि आइपीएस खुशहाल चंद शर्मा भी सिरमौर में एसपी रह चुके हैं और वर्तमान में कांगड़ा के एसपी हैं। पुलिस थाना श्रीरेणुकाजी में जरग निवासी जसवंत सिंह ने शिकायत दर्ज करवाई की एक अजनबी व्यक्ति जो खुद को सीबीआइ अफसर बता रहा है, वो उसकी बहन को पुलिस में नौकरी दिलाने का आश्वासन दे रहा हैं। आरोपी ने शिकायतकर्ता की बहन को इसके लिए ददाहू बुलाया था। शिकायतकर्ता ने बताया कि उस व्यक्ति पर शक है कि वह कोई सीबीआइ अफसर नहीं है, बल्कि झूठ बोलकर लोगों को नौकरी का झांसा दे रहा है। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी की पहचान हेमराज पुत्र दीप राम निवासी बलग तहसील व ज़िला पंचकूला हरियाणा के रूप में हुई हैं, जो अपना नाम खुशहाल शर्मा बता रहा था। वहीं खुद को सीबीआई ऑफिसर और संगड़ाह के डीएसपी शक्ति सिंह का दोस्त बताकर आरोपी लोगों को बेवकूफ बना रहा था। आरोपी की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए संगड़ाह उपमंडल के डीएसपी शक्ति सिंह ने बताया कि जब आरोपी से पूछताछ की गई। तो पाया कि वो लोगों को नौकरी देने का झूठा झांसा देकर पैसे ऐंठने का काम करता है। आरोपी अब तक राजगढ़ के दो-तीन लोगों पैसे ऐंठ चुका हैं। आरोपी इस बार जरग की युवती को नौकरी का झांसा दे रहा था, लेकिन पकड़ा गया। पुलिस ने आरोपी की मारुति कार CH04 A 7229 को भी कब्जे में ले लिया हैं। पुलिस ने शातिर को गिरफ्तार कर आईपीसी की धारा 170, 419 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी हैं। पुलिस ने बताया कि आरोपी को अदालत में पेश किया जा रहा है। जिसके बाद उसे रिमांड पर लेकर गहनता से पूछताछ की जाएगी। पूछताछ में ही इस बात की तफ्तीश होगी कि आरोपी व्यक्ति ने इससे पहले कितने लोगों से पैसे ऐंठे हैं। मामले की जांच की जा रही है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।