अपने पैन कार्ड पर लिखे 10 अंकों के बारे में कभी सोचा है आपने, इसमें छुपी हैं आपसे जुड़ी कई जानकारियां
March 10th, 2020 | Post by :- | 372 Views

आज के समय में लगभग हर कोई PAN Card का इस्तेमाल करता है। पैन कार्ड कई कामों के लिए जरूरी भी है। लेकिन क्या आपने कभी गौर किया है कि आप जो पैन कार्ड का इस्तेमाल कर रहे हैं उस पर लिखे 10 अंकों का क्या मतलब होता है। हम इस खबर में आपको इससे जुड़ी जानकारी दे रहे हैं।

दरअसल, पैन कार्ड पर जो अंक लिखा होता है वह कोई सामान्य सा नंबर नहीं होता है, बल्कि उसमें पैन कार्डधारक के बारे में कुछ जानकारियां शामिल होती हैं। पैन कार्ड जारी करने वाला आयकर विभाग पैन कार्ड के लिए एक विशेष प्रक्रिया का इस्तेमाल करता है। आपके पैन कार्ड पर जो दस अंक लिखे होते हैं उसके मायने हैं। दस डिजिट वाले प्रत्येक पैन कार्ड में नंबर और अक्षरों का एक मिश्रण होता है। इसमें पहले पांच कैरेक्टर हमेशा अक्षर होते हैं, फिर अगले 4 कैरेक्टर नंबर होते हैं और फिर अंत में वापस एक अक्षर आता है। कई बार पैन कार्ड पर लिखे ‘ओ’ और ‘जीरो’ देखकर लोग इन्हें पहचानने में कंफ्यूज हो जाते हैं।

पैन कार्ड पर लिखे पहले पांच कैरेक्टर्स में से पहले तीन कैरेक्टर अल्फाबेटिक सीरीज को दर्शाते हैं। आयकर विभाग की नजर में आप क्या हैं यह पैन नंबर का चौथा कैरेक्टर बताता है। अगर आप इंडिविजुअल हैं तो आपके पैन कार्ड का चौथा कैरेक्टर P होगा। ऐसे ही बाकी अक्षरों का मतलब हम आपको बता रहे हैं।

  • C- कंपनी
  • H- हिंदू अविभाजित परिवार
  • A- व्यक्तियों का संघ (AOP)
  • B- बॉडी ऑफ इंडिविजुअल्स (BOI)
  • G- सरकारी एजेंसी
  • J- आर्टिफिशियल ज्युडिशियल पर्सन
  • L- लोकल अथॉरिटी
  • F- फर्म/लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनिरशिप
  • T- ट्रस्ट

इसके बाद पैन नंबर का पांचवा कैरेक्टर आपके सरनेम के पहले अक्षर को दर्शाता है। मसलन, अगर आपका सरनेम गुप्ता है, तो आपके पैन नंबर का पांचवा कैरेक्टर G होगा। वहीं, नॉन इंडिविजुअल पैन कार्डधारकों के लिए पांचवां करैक्टर उनके नाम के पहले अक्षर को दर्शाता है। अगले चार कैरेक्टर नंबर होते हैं, जो 0001 से 9990 के बीच हो सकते हैं। इसके बाद आपके पैन नंबर का अंतिम करैक्टर हमेशा एक अक्षर होता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।