16 वर्षीय लड़की से रेप के आरोपी को बरी कर HC ने कहा- गुप्तांगों पर चोट के निशान नहीं मिले!
December 12th, 2019 | Post by :- | 207 Views

चंडीगढ़। पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने वर्ष 2000 में 16 वर्षीय लड़की से रेप के आरोपी को बरी करने के फैसले को बरकरार रखा है। कोर्ट ने 1997 के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहा कि यह ‘स्पष्ट तौर पर सहमति का मामला है’ क्योंकि जांच में लड़की के गुप्तांगों पर चोट के निशान नहीं मिले। कोर्ट द्वारा कहा गया कि 16 साल की उम्र में किसी भी व्यक्ति के लिए एक बड़ी लड़की का बलात्कार करना बहुत मुश्किल होता है।
कोर्ट द्वारा कहा गया कि रिकॉर्ड पर मौजूद साक्ष्यों से, यह सहमति का स्पष्ट मामला है। मेडिकल सबूतों और उसके निजी अंगों की जांच के अनुसार लड़की के शरीर पर चोट के कोई निशान नहीं थे। बता दें कि उच्च न्यायालय के समक्ष मौजूदा मामला सितंबर 2000 से पहले का है। फरवरी 2003 में जब ट्रायल कोर्ट ने आरोपी को बरी कर दिया था, तो हरियाणा राज्य ने इसके खिलाफ अपील दायर की थी। इस साल 7 दिसंबर को अदालत ने बरी करने के खिलाफ अपील खारिज कर दी थी। जबकि राज्य ने दलील दी थी कि घटना होने के समय लड़की की उम्र 16 साल से कम थी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।