हिमाचल: एक ही स्कूल- 9वीं कक्षा, 4 दिन से कोई पता नहीं; पढने के लिए घर से निकली थीं छात्राएं #news4
December 16th, 2021 | Post by :- | 226 Views

सिरमौर। हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले से दो छात्राएं लापता बताई जा रही हैं। मामला नागरिक उपमंडल शिलाई के तहत आते राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला रोनहाट का है, जहां कक्षा 9वीं में पढने वाली ये दोनों छात्राएं घर से पढ़ाई करने की बात कह निकलीं और अब चार दिन से इनका कुछ पता नहीं है।

मामले में पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर अपहरण का केस फ़ाइल कर, इन बच्चियों की तलाश शुरू कर दी है। वहीं, परिजन भी अपने स्तर पर बच्चों की तलाश में हाथ पांव मार रहे हैं। बतौर रिपोर्ट्स, दोनों लडकियां  ग्राम पंचायत रास्त में स्थित गांव देवलाह की रहने वाली हैं।

स्कूल को निकलीं और वहां भी ना पहुंचीं

एक लड़की का नाम विमल (उम्र 15 वर्ष) पुत्री सत्या देवी और दूसरी का नाम शीतल (उम्र 15 वर्ष) पुत्री सुरेश कुमार है। ये दोनों 13 दिसंबर को ही घर से स्कूल जाने को निकली थीं। पता ये भी चला है कि ये उस दिन स्कूल भी नहीं पहुंची थीं। दोनों लड़कियां बीते चार दिनों से अपने परिवार और रिश्तेदारों के संपर्क में भी नहीं है।

दोनों लडकियां अगर कहीं भी दिखाई दें तो पुलिस चौकी रोनहाट के मोबाइल नम्बर 7018989452 पर जानकारी दें 

वहीं, घर ना लौटने पर परिवारवालों ने इनकी तलाश भी की थी, लेकिन उनके हाथ कुछ नहीं लगा। इसके बाद अब पुलिस की मदद मांगी है। लड़कियों के परिजनों को शक है कि किसी नामालूम व्यक्ति ने उनकी बच्चियों का अपहरण किया है।

अन्य अभिभावकों में इस बात का डर

परिजनों के इस शक की वजह से अन्य अभिभावक भी अपनी बच्चियों को स्कूल भेजने से घबरा रहे हैं। चार दिनों बाद भी छात्राओं का कोई सुराग नहीं मिलने से क्षेत्र के लोग सहमे हुए हैं। उधर, पुलिस की तफ्तीश अभी किसी निष्कर्ष तक नहीं पहुंच पाई है।

उधर, पांवटा साहिब के डीएसपी वीर बहादुर ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि दोनों लापता युवतियों के परिजनों की शिकायत पर पुलिस द्वारा अभियोग पंजीकृत किया गया है। पुलिस द्वारा विभिन्न टीमें बनाकर लापता युवतियों की तलाश की जा रहीं है।

दोनों लडकियां अगर कहीं भी दिखाई दें तो पुलिस चौकी रोनहाट के मोबाइल नम्बर 7018989452 पर जानकारी दें 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।