हिमाचल सरकार का बड़ा फैसला: तृतीय श्रेणी कर्मचारियों की भर्ती के लिए 15 अंकों की मूल्यांकन प्रक्रिया खत्म, अधिसूचना जारी #news4
May 4th, 2022 | Post by :- | 144 Views

हिमाचल प्रदेश में तृतीय श्रेणी कर्मचारियों की भर्ती के लिए 15 अंकों की मूल्यांकन प्रक्रिया को तुरंत प्रभाव से खत्म कर दिया गया है। अब लिखित परीक्षा, स्क्रीनिंग टेस्ट या स्किल टेस्ट की मेरिट के आधार पर तृतीय श्रेणी पदों के लिए उम्मीदवारों का चयन होगा। मुख्य सचिव राम सुभग सिंह ने बुधवार को इसकी अधिसूचना जारी कर दी है। इसके लिए 17 अप्रैल 2017 की अधिसूचना में आंशिक फेरबदल किया गया है। इसको लेकर कैबिनेट ने पहले ही मंजूरी दे दी थी। तृतीय श्रेणी कर्मचारियों की भर्ती के लिए इससे पहले 85 अंकों की लिखित परीक्षा तय थी। नई अधिसूचना के अनुसार अब यह 100 अंकों की होगी। इस अधिसूचना को सभी प्रशासनिक सचिवों, विभागाध्यक्षों, विभिन्न एजेंसियों को भेजा जा रहा है।

जहां लिखित परीक्षा हो गई, वहां लागू होगी पुरानी व्यवस्था 
इस अधिसूचना में यह भी साफ किया गया है कि जहां लिखित परीक्षा हो गई है, वहां पुरानी व्यवस्था लागू होगी। यानी 17 अप्रैल 2017 की अधिसूचना के अनुसार 15 अंकों का मूल्यांकन जारी रहेगा। जहां पहले से ही भर्ती प्रक्रिया चल रही है, लेकिन लिखित परीक्षा नहीं हुई है, वहां पर पदों को तुरंत अनुपूरक विज्ञापन जारी कर पुनर्विज्ञापित किया जाएगा।

भर्ती में आएगी पारदर्शिता: महासंघ
हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ के प्रांत महामंत्री डॉ. मामराज पुंडीर ने कहा कि इस व्यवस्था से उन उम्मीदवारों को फायदा होगा जिन्होंने लिखित परीक्षा में ज्यादा नंबर हासिल किए हैं।  नई व्यवस्था से परीक्षा परिणाम जल्द निकलने का रास्ता भी साफ होगा। प्रदेश की जयराम सरकार ने लाखों युवाओं को नौकरियों में लाभ देने और उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले परीक्षार्थियों को उनकी मेहनत का अनुसार परिणाम देने के लिए यह फैसला लिया है। हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ ने इस फैसले के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और उनके कैबिनेट के सभी सदस्यों का आभार जताया है। डॉ. मामराज पुंडीर ने कहा सरकार को क्लास वन व टू के सभी पदों के लिए भी इस व्यवस्था को लागू कर देना चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।