हिमाचल प्रदेश: सरकार ने लिया बड़ा फैसला, अब बिना कर्फ्यू पास कर सकेंगे जिले में आवाजाही
May 11th, 2020 | Post by :- | 275 Views

हिमाचल प्रदेश सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। प्रदेश में अब जिले के भीतर आवाजाही के लिए कर्फ्यू पास अनिवार्य नहीं है। हालांकि एक से दूसरे जिले में जाने के लिए कर्फ्यू पास अनिवार्य होगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सोमवार को जिलों के डीसी और एसपी के साथ हुई बैठक में यह फैसला लिया। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य के 68 हजार लोगों ने प्रदेश में प्रवेश के लिए ई-पास के लिए आवेदन किया है।
सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य के 68 हजार लोगों ने प्रदेश में प्रवेश के लिए ई-पास के लिए आवेदन किया है। उन्होंने कहा कि इनमें से बड़ी संख्या में लोग रेड जोन से आ रहे हैं, इसलिए संस्थागत क्वारंटीन सुविधा की आवश्यकता होगी। उन्होंने उपायुक्तों को निर्देश दिया कि वे ऐसे स्थानों की पहचान करें जहां सुविधाओं के साथ ऐसे लोगों को रखा जा सके। उन्होंने कहा कि इन संस्थानों की स्वच्छता को सुनिश्चित किया जाना चाहिए।
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि बंगलूरू से विशेष ट्रेन 13 मई को सुबह छह बजे उड़ीसा पहुंचेगी और थिविम, मड़गांव और करमाली (गोवा) से एक और विशेष ट्रेन 15 मई, 2020 को ऊना पहुंचेगी। उन्होंने डीसी ऊना को निर्देश दिया कि वे पूरी व्यवस्था करें। सीएम ने कहा कि इन लोगों की सुविधा के लिए भोजन के पैकेट, पानी आदि की व्यवस्था भी की जानी चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि रेड जोन से आ रहे सर्दी, खांसी जुकाम के लक्षणों वाले हिमाचलियों को संस्थागत क्वारंटीन में रखा जाएगा। राज्य में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति की पूरी तरह से चिकित्सकीय जांच की जानी चाहिए और उसके बाद ही यह तय किया जाना चाहिए कि उसे संस्थागत क्वारंटीन में रखना है या होम क्वारंटीन में।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि उन्होंने उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से भी बातचीत की है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सरकार उत्तराखंड के विभिन्न स्थानों पर सभी फंसे हिमाचलियों को देहरादून तक लाने के लिए सहमत हो गई है और वहां से उन्हें उनके मूल स्थान पर लाने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।