हिमाचल में मिलेगी सीमित छूट, 10 दिनों तक नहीं खुलेंगे सरकारी दफ्तर
April 20th, 2020 | Post by :- | 167 Views

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि फिलहाल प्रदेश में सीमित रियायतें ही दी जाएंगी। प्रदेश में अगले 10 दिनों तक सरकारी कार्यालय नहीं खुलेंगे। इसके बाद हालात की समीक्षा की जाएगी और उसके अनुसार ही काम किया जाएगा। सीएम ने कहा कि कोरोना से चल रही जंग में अब अगर किसी वॉरियर की मौत होती है तो सरकार परिवार को 50 लाख रुपये का मुआवजा देगी। सीएम सोमवार को होटल पीटरहॉफ में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री व मुख्य सचिव ने बताया कि इस बार प्रदेश को बहुत वित्तीय नुकसान हुआ है। हालत यह है कि जहां मार्च से अब तक औसतन हर बार 400 करोड़ राजस्व आता था, वहीं इस बार यह 40 से 45 करोड़ ही रह गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल में अन्य प्रदेशों की तुलना में हालात काफी अच्छे हैं लेकिन अभी भी स्थिति खुश होने जैसी नहीं है। उन्होंने फिर दोहराया कि बाहरी राज्यों में फंसे लोग जहां हैं, वहीं रहें। आश्वासन दिया कि सरकार उन्हें वहीं हर संभव मदद पहुंचाने का प्रयास कर रही है। इस दौरान शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, मुख्य सचिव अनिल खाची, अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान, डीजीपी सीताराम मरडी आदि भी मौजूद रहे।

39 में से 25 पॉजिटिव मरकज से लौटे थे
सीएम ने कहा कि कौन-कौन लोग कोरोना पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए हैं, यह जानने को सीडीआर तक की मदद लेनी पड़ी। वर्तमान में प्रदेश में 39 मामलों में से 25 मरकज से आए थे। लाख अपील के बाद भी ये अपनी जानकारी साझा नहीं कर रहे थे। इसी वजह से उन्हें व डीजीपी को सख्त शब्दों में चेतावनी जारी करनी पड़ी। सीएम ने कहा कि हमीरपुर में आए दो मामले अलग तरह के हैं, जिनकी वजह से चिंता है।
यह सियासत का समय नहीं, सुझावों का स्वागत है

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री व माकपा विधायक राकेश सिंघा के मजदूरों को खाना न दिए जाने को लेकर दिए जा रहे धरने पर मुख्यमंत्री ने तीखी प्रतिक्रिया दी। सीएम बोले कि यह समय सियासत का नहीं है।

पूरी दुनिया इस महामारी से जूझ रही है। सीएम ने दावा किया कि प्रदेश में कोई भी व्यक्ति खाने को लेकर परेशान नहीं है। हर दिन वह खुद सुबह-शाम अफसरों के साथ बैठक कर सुनिश्चित करा रहे हैं कि कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। सीएम ने कहा कि कोरोना से लड़ी जा रही जंग में सुझावों का स्वागत है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।