सैलिब्रिटी बनने के शौक से नहीं, देशभक्ति के लिए सेना की वर्दी पहनते हैं हिमाचल के सूरमा : राजेंद्र राणा #news4
June 19th, 2022 | Post by :- | 89 Views

हमीरपुर  : सेना में अग्निपथ योजना के आक्रोश में आंदोलित नौजवानों से कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष व विधायक राजेंद्र राणा ने हिमाचल प्रदेश कांग्रेस का पक्ष रखते हुए अपील की है कि इस आंदोलन की आग में आक्रोशित नौजवान देश और प्रदेश की संपत्तियों को नुक्सान न पहुंचाएं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लिए नौजवान भविष्य की धरोहर हैं और कांग्रेस की दशकों की कड़ी मेहनत के बाद बनाई गई देश की सरकारी संपत्तियां नौजवानों के भविष्य के लिए हैं। इसलिए बीजेपी के अन्याय से उपजे आक्रोश में सरकारी संपत्तियों को बर्बाद करना सही नहीं है। राणा ने कहा कि बीजेपी की मनमानियों के प्रति नौजवानों को एकजुटता से न केवल मुकाबला करना होगा बल्कि बीजेपी सरकार से देश की संपत्तियों को बचाना भी होगा क्योंकि अधिकांश संपत्तियां बीजेपी सरकार बेच चुकी है। अब नौजवानों की एकता ही इन संपत्तियों को बचा सकती है।

हिमाचल को अब तक मिल चुके हैं 4 परमवीर चक्र
राणा ने अग्निपथ योजना को नौजवानों को आग में झोंकने की योजना करार दिया। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार विपक्ष और नौजवानों पर आरोप लगाने से पहले यह समझें कि इस आंदोलन के लिए न तो नौजवान किसी सियासी पार्टी द्वारा बुलाए गए हैं और न ही लाए गए हैं। यह बीजेपी की मनमानियों के प्रति नौजवानों का आक्रोश है जोकि सेना के प्रति सम्मान का जज्बा रखने वाले नौजवानों को सड़कों पर आंदोलित होने के लिए मजबूर कर रहा है। राणा ने कहा कि 3 दिन पहले आनन-फानन में थोपी गई अग्निपथ योजना में महज दो दिनों में ही दो संशोधन हो चुके हैं जोकि यह साबित करता है कि यह योजना गलत ही नहीं बल्कि जल्दबाजी में भी थोपी गई है। उन्होंने कहा कि हिमाचल के लिए सेना नौकरी नहीं है बल्कि सेना की वर्दी देश की सुरक्षा व सुरक्षा करने वालों के प्रति सम्मान का भाव और भावना है। इस सर्वोच्च सम्मान को फौलादी हौसला रखने वाले हिमाचली नौजवान बाखूबी निभाते आए हैं। हिमाचल को अब तक 4 परमवीर चक्र न बीजेपी के कारण मिले हैं और न ही 2014 के बाद मिले हैं। इस बात को बीजेपी समझे।

भाजपा बताए, नई अग्निपथ योजना को थोपने की क्या जरूरत
राणा ने सवाल खड़ा किया है कि बीजेपी को यह बताना होगा कि जब देश में पहले से सामान्य भर्ती प्रक्रिया चल रही है, जिसमें प्रति वर्ष 50 हजार नियमित भर्तियां करने का प्रावधान है तो नई अग्निपथ योजना को थोपने की जरूरत क्यों और क्या है? क्या इस योजना को लागू करने से पहले विपक्ष को विश्वास में लिया गया है या पार्लियामैंट की कोई बैठक हुई है? उन्होंने कहा कि हिमाचल के फौलादी हौसलों का अंदाजा व सुरक्षा के प्रति सम्मान का जज्बा इस बात से लगा लेना चाहिए कि कोई ही महीना जाता होगा जब सेना में हिमाचली सूरमा की शहादत नहीं होती होगी।

आर्मी में नहीं जाते बीजेपी के नेताओं के बच्चे 
राणा ने कहा कि बीजेपी के नेताओं के बच्चे आर्मी में नहीं जाते हैं। उनके बच्चे बीसीसीआई में अपना भविष्य देखते हैं। टैरिटोरियल आर्मी के नाम पर सैलिब्रिटी बनकर वर्दी पहनना बीजेपी नेताओं के लिए शौक की बात हो सकती है लेकिन कड़ी मेहनत करते हुए धूप, गर्मी, बरसात में सीमाओं पर देशभक्ति के लिए सेना की वर्दी पहनना हिमाचली गबरुओं के लिए गर्व और सम्मान की बात है। इसलिए बीजेपी अग्निपथ योजना पर सेल्समैन की भाषा में हिमाचली सूरमाओं को मार्कीटिंग के फंडे पर फायदे न गिनाए। बीजेपी सरकार सेना की सामान्य भर्ती प्रक्रिया को ही बहाल रखे अन्यथा देश और प्रदेश के नौजवानों का आक्रोश से भड़की ज्वाला बीजेपी के सिंहासन को ध्वस्त व राख करके छोड़ेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।