कोरोना वायरस का असर: पर्यटन नगरी मनाली के होटल और बाजार होंगे बंद, पर्यटकों से न आने की अपील
March 19th, 2020 | Post by :- | 146 Views

यदि आप पर्यटन नगरी मनाली घूमने आ रहे हैं तो अपना कार्यक्रम रद कर दें। कोरोना वायरस के कारण व्यावसायिक संगठनों ने मनाली प्रशासन संग मिलकर सोमवार से 31 मार्च तक मनाली को बंद रखने का निर्णय लिया है। हालांकि, इमरजेंसी सप्लाई जारी रहेगी। लेकिन बाकी सब दुकानें और होटल बंद रहेंगे। मनाली को बंद रखने की मुहिम तीन दिन से चली हुई थी लेकिन आज सभी ने प्रशासन के समक्ष अपनी सहमति जताई और 31 मार्च तक पर्यटन नगरी को बंद करने का निर्णय लिया है।

मनाली बाजार सहित पलचान पंचायत ने भी बैठक कर सभी पर्यटन गतिविधियों को बंद करने का निर्णय लिया है। पलचान प्रधान सुंदर ठाकुर ने बताया सभी पांच गांव के लोगों ने पर्यटन गतिविधियों को सर्वसम्मति से बंद करने का निर्णय लिया है। मनाली के मिनी सचिवालय में आयोजित बैठक में व्यापार मंडल मनाली, होटल एसोसिएशन, एचपी ट्रेवल एसोसिएशन, होम स्‍टे, बीएंडबी, हिमाचल टैक्सी यूनियन, ऑटो यूनियन, जीप यूनियन, वॉल्वो यूनियन, लग्जरी कोच, कोट बूट यूनियन, पंचायतों के प्रधान, नेपाली एकता समाज के अध्यक्ष सायला लामा सहित समस्त व्यवसाय से जुड़े एसोसिएशन के प्रतिनिधि मौजूद रहे।

एसडीएम मनाली रमन घरसंगी ने बताया की सभी एसोसिएशन कि सहमति से सोमवार से मनाली शहर सहित समस्त पर्यटन गतिविधियों को बंद कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि जरूरी सामान के दुकानदारों को दुकान के आगे फोन नंबर लिखने को कहा गया है, ताकि जरूरत पड़ने पर लोग सामान ले सकें।

प्रशासन और पर्यटन कारोबारियों ने तीन दिन का समय पर्यटकों को दिया है, ताकि पर्यटक तीन दिन में आराम से घर वापस जा सकें। तीन दिन के बाद सोमवार से सभी पर्यटन गतिविधियों समेत होटल और बाजार बंद कर दिए जाएंगे। प्रशासन और कारोबारियों ने कोरोना वायरस से बचाव को लेकर यह कदम उठाया है। मनाली में पर्यटन सीजन के दौरान रोजाना हजारों पर्यटक पहुंचते हैं। गर्मियां शुरू होते ही मनाली में पर्यटकों की तादाद सैकड़ों से हजारों में पहुंच जाती है। लेकिन इस बार समर पर्यटन सीजन पर संकट मंडराने लगा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।