एचपीटीयू हमीरपुर: प्रो. शशि ने संभाला कुलपति का पदभार, बोले- बुद्धिमत्ता और मशीन लर्निंग जैसे कोर्सों को दिया जाएगा बढ़ावा #news4
May 6th, 2022 | Post by :- | 87 Views

प्रो. शशि कुमार ने शुक्रवार को हिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर के कुलपति का पदभार संभाला। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 का प्रभावी ढंग से क्रियान्वयन किया जाएगा। तकनीकी विवि की ओर से गठित समिति की जल्द बैठक होगी। विद्यार्थियों को रोजगार आधारित शिक्षा देने पर बल दिया जाएगा, जिसके लिए पाठ्यक्रम तैयार करेंगे। विवि से संबद्ध कॉलेजों में कृत्रिम बुद्धिमत्ता, मशीन लर्निंग, डाटा कंप्यूटिंग और कौशल और व्यावसायिक कोर्सों को बढ़ावा देने की दिशा में काम किया जाएगा।

कैंपस प्लेसमेंट सहित विभिन्न कंपनियों के साथ एमओयू कर रोजगार सम्मेलन करवाने पर फोकस रहेगा। कहा कि तकनीकी विवि परिसर में शैक्षणिक वातावरण के लिए कार्ययोजना बनाई जाएगी। शैक्षणिक भवन और ओपन एयर थियेटर का काम अंतिम चरण में है। जल्द इनका लोकार्पण किया जाएगा। स्नातक और स्नातकोत्तर विषयों के लिए स्थायी प्राध्यापकों और कर्मचारियों के पद सृजित कर भरने के लिए सरकार से जल्द वार्ता की जाएगी।

तकनीकी विवि की शैक्षणिक परिषद में मंजूर एक साल का पीजी डिप्लोमा इन परफॉर्मिंग आर्ट (कला प्रदर्शन), पीजी डिप्लोमा इन मशीन लर्निंग एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, पीजी डिप्लोमा इन बिग डाटा, पीजी डिप्लोमा इन इंटरनेट ऑफ थिंग्स, पीजी डिप्लोमा इन फोरेंसिक साइंस के कोर्स शुरू करने पर जल्द निर्णय किया जाएगा। कुलपति ने कहा कि तकनीकी विवि में एक और शैक्षणिक भवन के निर्माण, लड़कों और लड़कियों के लिए छात्रावास, कुलपति आवास सहित आवासीय कॉलोनी, सीवरेज ट्रीमेंट प्लांट, कैंटीन, टक शॉप, पार्किंग आदि के प्रस्तावित निर्माण कार्य भी चरणबद्ध पूरा करना प्राथमिकता रहेगी।

कुलपति ने तकनीकी विवि में चल रहीं गतिविधियों की फीडबैक ली। कुलसचिव सहित अन्य अधिकारियों के साथ संवाद किया। अधिष्ठाता शैक्षणिक प्रो. राजेंद्र गुलेरिया, कुलसचिव अनुपम ठाकुर, उप कुलसचिव संजीवन मनकोटिया, सहायक कुलसचिव राजीव वर्मा, सुरेंद्र शर्मा, परियोजना अधिकारी अमित ठाकुर, संपदा अधिकारी धीरज कौंडल और हरीश चंद्र आदि मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।