हिमकेयर व आयुष्मान योजनाओं को ज़रूरतमंदों तक पहुंचे लाभः कंवर
August 1st, 2019 | Post by :- | 484 Views

स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में बोले ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री
ऊना (1 अगस्त)- हिमकेयर व आयुष्मान सरीखी योजनाओं का लाभ हर जरूरतमंद तक पहुंचना चाहिए। यह बात ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने स्वास्थ्य विभाग की आज एक बैठक में कही। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं के अंतर्गत टेस्ट भी निशुल्क करवाए जाने चाहिए ताकि गरीबों को सस्ते इलाज की सुविधा मिल सके। बैठक में कंवर ने कहा कि मरीज़ अकसर शिकायत करते हैं कि डॉक्टर ज्यादा दवाएं लिखते हैं। ऐसे में सभी डॉक्टरों को आवश्यकता अनुसार ही दवाएं लिखनी चाहिए और यह बात भी सुनिश्चित करें कि दवाएं अस्पताल में ही मिलें ताकि मरीजों को बाहर से दवाएं न खरीदी पड़े।
वीरेंद्र कंवर ने कहा कि ऐसी बैठकों को आयोजन तीन महीने में एक बार होना चाहिए ताकि मरीज़ों के साथ-साथ डॉक्टरों की समस्याओं का भी पता चल सके और उन समस्याओं को उचित मंच पर उठाकर निवारण किया जा सके। उन्होंने रोगी कल्याण समिति की बैठक जल्द ही आयोजित करने के निर्देश दिए।
बैठक में उपस्थित भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती ने कहा कि ऊना गर्म जिला है, ऐसे में सभी वार्डों में एसी की सुविधा दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि मरीज़ों का परेशानी नहीं होनी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि अस्पताल 300 बिस्तर का बन गया है तथा जल्द ही यहां पर 37 डॉक्टर होंगे। सीएमओ ऊना डॉ. रमन कुमार शर्मा ने अलग से ओपीडी ब्लॉक बनाने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि डॉक्टर भी बढ़ेंगे तो उनके लिए बैठने का उपयुक्त इंतज़ाम किया जाना चाहिए। इस पर ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने सीएमओ को एस्टिमेट तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने नेतृत्व में सरकार अस्पतालों में बेहतर सुविधा उपलब्ध करवाने के प्रयास कर रही है। इस अवसर पर ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री तथा सतपाल सत्ती ने अस्पताल के वार्डों में जाकर मरीज़ों से भी बात की।
इस अवसर पर हिमाचल औद्योगिक विकास निगम के उपाध्यक्ष प्रो. राम कुमार, एपीएमसी चेयरमैन बलबीर बग्गा, सीएमओ डॉ. रमन कुमार शर्मा, एमएस डॉ. वीके चौधरी, एमओएस डॉ. निखिल तथा अस्पताल का स्टाफ उपस्थित रहा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।