धौलासिद्ध प्रोजैक्ट में कांग्रेस अड़ंगा न डालती तो आज यहां बिजली भी बनती और आमदन भी होती : धूमल #news4
November 17th, 2021 | Post by :- | 156 Views

हमीरपुर : वर्ष 2012 में अगर धौलासिद्ध जल विद्युत परियोजना का काम शुरू किया होता तो आज यह परियोजना धरातल पर लोगों को सुविधा देने योग्य होती और बिजली भी बनती व प्रदेश सरकार को कमाई का साधन भी बनता लेकिन उस समय केंद्र की यूपीए कांग्रेस सरकार ने इस योजना को शुरू होने नहीं दिया लेकिन जब भाजपा की सरकार 2017 में फिर सत्ता में आई और केंद्र में मोदी सरकार थी तो इस योजना को तुरन्त शुरू करवाया गया ताकि क्षेत्र के युवाओं व लोगों को रोजगार व स्वरोजगार मिल सके। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र की करोट पंचायत में मुख्यमंत्री गृहिणी योजना के तहत लाभार्थियों को मुफ्त गैस सिलैंडर वितरित करने के उपरांत एक जनसभा को संबोधित करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि उनके लिए राजनीति कभी भी सत्ता सुख भोगने का साधन नहीं रहा। उन्होंने कहा कि जब-जब उन्होंने प्रदेश की कमान संभाली है तब-तब पूरे प्रदेश का एक समान विकास करवाया है। उन्होंने कहा कि जब वह प्रदेश के मुख्यमंत्री थे तो उस समय केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की कमान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के हाथ में थी, जिसके चलते उस समय प्रधानमंत्री सड़क योजना शरू हुई और शहरों की तर्ज पर गांवों में भी सड़क सुबिधा उपलब्ध हुई। उन्होंने कहा कि वर्तमान में केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार जन हितेषी राष्ट्र कल्याण को लेकर जो भी फैसले ले रही है उसका प्रत्येक वर्ग को लाभ मिला है और आगे भी मिलता रहेगा।

उन्होंने कहा कि बात वैश्विक कोविड-19 की हो या फिर अन्य किसी आपदा की, हर क्षेत्र में हर समय डटकर केंद्र की भाजपा सरकार ने उसका मुकाबला किया है। उन्होंने कहा कि आज जो कांग्रेस पार्टी व उसके नेता पैट्रोल-डीजल के भाव को लेकर इतना हो-हल्ला मचा रहे हैं, उन्हें ज्ञात होना चाहिए कि यह वही कांग्रेस है जिसने 2013 में जब भारतीय जनता पार्टी ने पैट्रो पदार्थों के रेट एक समान करने का प्रावधान किया था तो इन्होंने उसे रद्द कर दिया था। इसके बाबजूद भी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार प्रयास करके बढ़ती महंगाई को कम करने में लगे हुए हैं और पैट्रोल-डीजल के रेट भी कम हुए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।