संप्रदाय के आधार पर दुकानों व अस्पतालों में भेदभाव किया तो होगी कार्रवाई, थाना प्रभारी की जिम्मेवारी तय
April 17th, 2020 | Post by :- | 112 Views

हिमाचल प्रदेश में कुछ दुकानों और अस्पतालों में उपचार में संप्रदाय के आधार पर भेदभाव हो रहा है। बकौल डीजीपी एसअार मरड़ी ऐसा करना किसी भी लिहाज से उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग एक संप्रदाय विशेष के लोगों से मकान खाली करने के आदेश दे रहे हैं। एेसे लोगों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई होगी।

प्रदेश में कश्मीरी रह रहे हैं, इनकी सुरक्षा का जिम्मा संबंधित थाने के एसएचओ का होगा। ये जब तक यहां रहना चाहें, रह सकते हैं। इसी तरह से उत्तर-पूर्व के छात्र भी प्रदेश में रह रहे हैं, इन्हें भी उचित सुरक्षा प्रदान की जाएगी। मरड़ी ने कहा कि राष्ट्रीय एकता बनाए रखने के लिए ऐसा करना जरूरी है। राज्य पुलिस ने मास्क न पहनने वाले लाेगों के खिलाफ कड़ी कारवाई करने की चेतावनी दी है।

एल्कोहल से गंवाई जान

डीजीपी ने कहा कि सोलन के परवाणु में एक व्यक्ति ने एल्कोहल से जान गवां दी। उन्होंने कुछ दिन पूर्व ही कोरोना से बचने के लिए एल्कोहल न पीने की सलाह दी थी। दैनिक जागरण ने इस संबंध में आंकड़ों पर आधारित खबर भी प्रकाशित की थी। इसमें लोगों से शराब का सेवन न करने की सलाह दी गई थी।

वाहन में किसी को बैठाया तो चालक के खिलाफ होगी कार्रवाई

डीजीपी एसआर मरडी ने आवश्यक सेवाओं की ढुलाई से जुड़े वाहनों के चालकों को कड़ी चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि अपने साथ बाहर से कोई भी व्यक्ति न लाएं। ऐसा करने वाले चालकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। एसआर मरडी ने पुलिसकर्मियों को हिदायत दी कि नाकों व बैरियर पर सब्जी समेत जरूरी वस्तुएं लेकर आ रहे वाहनों की गहनता से जांच करें। वाहन के साथ चालक व क्लीनर के अलावा किसी को प्रदेश में प्रवेश न करने दें। उन्होंने लोगों से भी अपील की कि ऐसे वक्त में अंतरराज्यीय मूवमेंट न करें। उन्होंने कहा कि कोरोना के पॉजिटव पाए गए दो मीडियाकर्मी सब्जी के ट्रक में बैठकर हिमाचल आए थे। अब ट्रक चालकों पर भी केस दर्ज होगा। उधर, जालंधर से मिली जानकारी के अनुसार जिस मीडिया संस्थान के कर्मी बताए जा रहे हैं उसके 90 कर्मचारियों के वीरवार को सैंपल लिए गए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।