फर्जी गरीब बने तो पंचायत सेक्टरी भी जाएंगे जेल
August 8th, 2019 | Post by :- | 147 Views

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाया गया है. जिसमें जयराम ठाकुर ने कहा कि जिस व्यक्ति की प्रतिमाह आय 2500 रुपए से अधिक होगी उसे बीपीएल परिवार में नहीं डाला जाएगा। और यह देखना पंचायत सहायक का भी फर्ज है।

बता दें कि इस संबंध में सरकार ने बीते शुक्रवार को अधिसूचना जारी कर दी है। सूचना में यह बताया गया है कि बीपीएल परिवार की जांच होने पर अगर व्यक्ति की मासिक आय 2500 रुपए से अधिक पाई गई और पंचायत ने फर्जी कागजात बनाकर उसे बीपीएल सूची में डाला है।
तो पंचायत सेक्टरी समेत व्यक्ति को सजा हो सकती है, अधिसूचना में यह भी कहा गया है कि व्यक्ति के परिवार से कोई भी व्यक्ति सरकारी नौकरी में नहीं होना चाहिए और उसकी मासिक आय 2500 होनी चाहिए।

सरकार ने यह भी फैसला लिया है कि बीपीएल परिवार में डालने के बाद उपरोक्त व्यक्ति की संपत्ति जमीन परिवार नकल में दी गई ,

सूचना गलत या फर्जी पाई जाती है तो बनाने वाले अधिकारी के खिलाफ भी कार्यवाही हो सकती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।