नई पेंशन की बकाया राशि जल्द न मिली तो होगा संघर्ष #news4
June 6th, 2022 | Post by :- | 106 Views

नालागढ़ : पेंशनर एवं वरिष्ठ नागरिक कल्याण संघ की नालागढ़ इकाई की बैठक सोमवार को हुई। इसमें सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिए देय नई पेंशन की बकाया राशि और 2016 के बाद सेवानिवृत्त हुए कर्मचारियों को उनकी पेंशन का निर्धारण शीघ्र करने की मांग की गई। सरकार को चेतावनी दी गई कि यदि उनकी मांगें पूरी न की गई तो अन्य पेंशनरों की तरह संघर्ष का रास्ता अपनाया जाएगा।

नालागढ़ स्थित लोक निर्माण विभाग के विश्राम गृह में आयोजित बैठक को प्रदेश अध्यक्ष आत्मा राम शर्मा ने वर्चुअल संबोधित किया। उन्होंने कहा कि अगर सरकार हिमाचल के पेंशनरों की मांगों को 19 जून तक पूरा नहीं करती है तो उसी दिन सोलन में होने वाली राज्यस्तरीय बैठक में राज्यव्यापी संघर्ष की रूपरेखा तैयार की जाएगी। वहीं, इकाई के अध्यक्ष नरेश घई की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में सेवानिवृत्त कर्मचारियों की बकाया राशि का एकमुश्त भुगतान करने की मांग की गई।

प्रदेश सरकार से मांग की गई कि सेवानिवृत्त कर्मचारियों को 65, 70 और 75 वर्ष पूरे होने पर मिलने वाले पांच, 10 व 15 फीसद भत्ते को मूल पेंशन में जोड़ा जाए। बैठक में नालागढ़ अस्पताल की चरमराती स्थिति पर चिता जताई गई। अस्पातल में मेडिसन, नेत्र और रेडियोलोजिस्ट के पद खाली हैं। सरकार ने इस अस्पताल को 200 बिस्तर का करने की घोषणा तो कर दी है लेकिन यहां पर स्टाफ भरने का काई इंतजाम नहीं है। इससे पूर्व बैठक में पूर्व प्रधान सीताराम ठाकुर के निधन पर दो मिनट का मौन रखकर दिवंगत की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की गई।

बैठक में कैलाश राणा, जगतार सिंह, अंजना शर्मा, इंद्रजीत सिंह, बख्शी राम, ठाकुर सिंह, निर्मल पुरी, अमृत लाल वर्मा, मोहन सिंह चंदेल, अजमेर सिंह, स्वारू राम, निक्का राम, दलीप सिंह राणा, हुक्म चंद, लाजवंती शर्मा, कर्मचंद, बलदेव सिंह, हेमराज भंडारी, जगत राम शर्मा, प्रेम चंद, रामेश्वर शर्मा, सुशील कुमार, गुरदास राम, दविद्र सिंह, सीता राम, मनसा राम, दलेल सिंह, बालकृष्ण, इंद्रजीत चंदेल व भज्जु राम उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।