हथियार जमा न करवाए तो होगी कार्रवाई, अवैध शराब पर भी रहेगी पैनी नजर
March 13th, 2019 | Post by :- | 266 Views

लोकसभा चुनाव (Loksabha Election) के चलते सभी लाइसेंस धारकों को अपने हथियार व गोला बारूछ नजदीकी पुलिस स्टेशन (Police Station) या हथियार विक्रेता के पास जमा करवाने होंगे। ऐसा न करने वालों के खिलाफ कानून कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। वहीं, शराब के उत्पादन, भंडारण, वितरण पर निगरानी व अवैध शराब (illegal liquor) के मामलों में छापेमारी करने के लिए जिला स्तरीय नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। जिला निर्वाचन अधिकारी व डीसी संदीप कुमार ने कहा कि लोकसभा चुनाव-2019 के दृष्टिगत जिलाभर में किसी भी व्यक्ति को घातक हथियार और आग्नेयास्त्र रखने एवं साथ लेकर चलने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा।

डीसी (DC) ने धारा 144 सीआरपीसी के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए इस संदर्भ में अधिसूचना जारी की है। उन्होंने जिले में चुनाव को स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं भय मुक्त तरीके से संपन्न कराने के लिए लाइसेंसी शस्त्र जमा करवाने के आदेश जारी किए हैं। उन्होंने सभी शस्त्रधारकों से अपने हथियार एवं गोला बारूद नजदीकी पुलिस स्टेशन/हथियार विक्रेता के पास जमा करवाने को कहा है। उन्होंने कहा कि आदेशों की अवहेलना करने वालों पर कानून के अनुरूप कार्रवाई की जाएगी। हालांकि सेना, पैरामीलिट्री, गृह रक्षक और पुलिस के जवानों पर यह आदेश लागू नहीं होंगे। इसके अलावा राष्ट्रीय राइफल एसोसिएशन के विभिन्न खेल स्पर्धाओं में भाग लेने वालो सदस्यों को भी इन आदेशों से छूट रहेगी।

ये बनाए नोडल अधिकारी

डीसी संदीप कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि लोकसभा चुनाव-2019 के दौरान जिले में शराब के उत्पादन-भंडारण और वितरण पर निगरानी रखने तथा अवैध शराब के मामलों पर छापेमारी करने के लिए जिला स्तरीय नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। उन्होंने बताया कि राज्य कर एवं आबकारी उपायुक्त विनोद डोगरा को राजस्व जिला कांगड़ा का नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है तथा जिनका मोबाइल नंबर 94186-05577 जबकि अतिरिक्त राज्य कर एवं आबकारी उपायुक्त प्रमोद शर्मा को राजस्व जिला नूरपुर का नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है, जिनका मोबाइल नंबर 94184-51115 है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।