IGMC Shimla: हिमाचल के सबसे बड़े अस्पताल में मंगलवार को छुट्टी पर जा सकते हैं डाक्टर्स, यह है वजह #news4
September 30th, 2022 | Post by :- | 110 Views

शिमला : IGMC Shimla, हिमाचल प्रदेश के सबसे बड़े स्वास्थ्य संस्थान आइजीएमसी, शिमला के डाक्टर काले बिल्ले लगाकर काम कर रहे हैं। मंगलवार को डाक्टर मांग के संबंध में सामूहिक अवकाश पर जा सकते हैं। डाक्टर मांगें पूरी नहीं होने के कारण सरकार से नाराज हैं। इससे मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। डाक्टर अकादमिक भत्ता जारी करने की मांग कर रहे हैं।

सेमडिकोट के अध्यक्ष डा. राजेश सूद ने बताया कि सरकार ने विशेषज्ञ डाक्टरों का अकादमिक भत्ता 7500 से 18000 रुपये कर दिया है, इसका वे स्वागत करते हैं, लेकिन मेडिकल कालेजों में काम करने वाले डाक्टरों को अभी तक यह भत्ता नहीं दिया है। सरकार ने कमेटी बनाई थी। अभी तक इस कमेटी ने इस अकादमिक भत्ते को बढ़ाने की कोई सिफारिश नहीं की है।

आपातकालीन सेवाएं रहेगी जारी

अस्पताल में प्रदेशभर से मरीज रेफर किए जाते हैं। डाक्टर के सामूहिक अवकाश पर जाने से मरीजों को इलाज नहीं मिल पाएगा। वार्ड में भी इससे दिक्कतें होंगी। स्टेट एसोसिएशन आफ मेडिकल एंड डेंटल कालेज टीचर्स (सेमडिकोट) के उपाध्यक्ष डा. रामलाल, महासचिव डा. जीके वर्मा, सहसचिव डा. विनय सौम्या ने कहा कि आपातकालीन सेवाएं जारी रहेंगी। डाक्टरों का कहना है कि आपातकालीन में मरीजों को दिक्कतों का सामना न करना पड़े इसको देखते हुए यह फैसला लिया गया है। आपातकालीन में मरीजों को सभी प्रकार की सुविधाएं प्रदान की जाएंगी।

आइजीएमसी में रोजाना 2500 से ज्यादा ओपीडी

अस्पताल में रोजाना 2500 से अधिक मरीजों की ओपीडी होती है। इसमें 100 से अधिक मरीज इमरजेंसी में इलाज करवाने आते हैं। अस्पताल में रोजाना नए मरीज दाखिल किए जाते हैं। ऐसे में जूनियर डाक्टरों के कंधों पर कार्यभार अधिक होने से मरीजों को दिक्कतें ही झेलनी पड़ेंगी। प्रदेश भर से मरीजों के उपचार के लिए आने से अस्पताल में रोजाना बहुत ज्यादा भीड़ लगी रहती है। इसके कारण मरीजों को चार अक्टूबर को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।