करसोग में गरजे विक्रमादित्य सिंह, जयराम सरकार पर लगाया क्षेत्रवाद का आरोप, बोले सिर्फ सिराज और धर्मपुर क्षेत्र में दी गई नौकरियां #news4
September 12th, 2022 | Post by :- | 71 Views

करसोग : करसोग में शिमला विक्रमादित्य सिंह ने जयराम सरकार पर क्षेत्रवाद फैलाने का आरोप लगाया है। यहां सोमवार को शिमला ग्रामीण विधायक ने युवा रोजगार यात्रा का नेतृत्व किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आज बेरोजगारी चरम सीमा पर है। पहले जो बेरोजगारी का आंकड़ा 4 फीसदी था आज वह बढ़कर 16 फीसदी तक पहुंच गया है। ऐसे में प्रदेश में 14 हजार युवा बेरोजगार घूम रहे है। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश जो पंप आपरेटर, बेलदार और करुणामूलकआधार पर केवल सिराज और धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र में हो नौकरियां दी जा रही है।

क्षेत्रवाद की इस नीति का कांग्रेस विरोध करती है। विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मंडी में अंतरर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे की घोषणा की थी। लेकिन पौने 5 सालों में हवाई अड्डे के नाम पर एक पत्थर तक नहीं लगा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने जिस तरह से घोषणाएं की है उन्हें पूरा करने में सरकार पूरी तरह से नाकाम साबित हुई है।

स्थानीय विधायक को लिया आड़े हाथ

विक्रमादित्य सिंह ने स्थानीय विधायक को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि आध्यात्मिक बातों से क्षेत्र का विकास नहीं होता है, अगर विधायक को अध्यात्मिक बातों का शौक है तो उन्हें किसी संत के पास जाना चाहिए। विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि जो व्यक्ति राजनीति क्षेत्र में है, उसका कर्तव्य बनता है कि वह लोगों की आवाज विधानसभा के अंदर उठाए, लेकिन दुख होता है कि पौने 5 सालों में कभी करसोग की आवाज विधानसभा में नहीं गूंजी। यही लोगों में गुस्सा था कि 6 महीने पहले मंडी संसदीय क्षेत्र के लिए जो उपचुनाव हुआ उसमें जनता ने मुख्यमंत्री के मंडी मेरी है और मेरी ही रहेगी के नारे को नकार दिया।

उन्होंने कहा कि मंडी संसदीय क्षेत्र से वीरभद्र सिंह 5 बार प्रतिभा सिंह 3 बार और सुखराम भी 3 बार मंडी से सांसद थे, लेकिन किसी ने नहीं कहा कि मंडी मेरी है। अब क्षेत्रवाद की राजनीति ज्यादा देर नहीं चलेगी।विक्रमादित्य सिंह ने स्थानीय मुद्दों को लेकर भी सरकार पर निशाना साधा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।