नाहन में कृषि विभाग के दफ्तर में डिप्टी डायरेक्टर पर हमला, रॉड से पीटकर किया लहूलुहान
April 21st, 2020 | Post by :- | 148 Views

सिरमौर जिला मुख्यालाय नाहन में उपायुक्त कार्यालय के समीप कृषि विभाग के डिप्टी डायरेक्टर कार्यालय में कुछ लोग घुस गए। आरोेप है कि इन लोगों ने बिना किसी कारण के डिप्टी डायरेक्टर के साथ मारपीट कर उन्हें लहुलूहान कर दिया। कृषि विभाग के डिप्टी डायरेक्टर राजेश कौशिक के साथ उनके ऑफिस में घुसकर गुंडा तत्वों द्वारा मारपीट करने के बाद उन्हें जान से मारने की धमकियां भी दी गई। साथ ही मारपीट के दौरान सरकारी संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया है।

बताया जा रहा है डिप्टी डायरेक्टर के साथ मारपीट करने वाले तीन कर्मचारी नेता व एक सेवानिवृत्त कर्मचारी है। डिप्टी डायरेक्टर राजेश कौशिक जब अपने दफ्तर में बैठ कर कोविड-19 के तहत किसानों के कामकाज के लिए जरूरी दस्तावेज तैयार कर रहे थे, इस दौरान उन पर हमला हुआ। पुलिस को दी शिकायत में डिप्टी डायरेक्टर ने बताया कि सोमवार शाम 5:45 बजे आरोपित कार्यालय में घुसे व मारपीट की।

कृषि विभाग के सेवानिवृत्त ड्राफ्टमैन अतर सिंह नेगी व दीपक चंदेल कृषि विभाग पांवटा साहिब के जेई, जो इस समय नाहन में तैनात हैं, शिशुपाल और राजेंद्र बब्बी पर मारपीट का आारोप है। आरोप है अधिकारी को आरोपितों ने रॉड से करीब डेढ़ घंटे तक पीटा और कार्यलय में ही बंधक बनाकर रखा। साथ ही दफ्तर के सामान को भी तोड़ दिया। जब डिप्टी डायरेक्टर ने इन चारों के चंगुल से बचने की कोशिश की, तो उसे जान से मारने की धमकियां दी तथा कहा कि यदि अगर तूने आला अधिकारियों व पुलिस में शिकायत की तो जान से मार देंगे।

यही नहीं आरोपित उनके दफ्तर से कुछ जरूरी सामान भी उठा कर ले गए। मारपीट से शिकायतकर्ता की कमीज तथा कपड़े पूरी तरह खून से लाल हो गए थे। वहीं शिकायत मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची तथा जांच शुरू कर दी। वही आरोपितों के खिलाफ नाहन पुलिस थाना में विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर आगामी जांच शुरू कर दी गई है। पुलिस ने चारों आरोपितों को पुलिस स्टेशन से ही जमानत पर रिहा कर दिया है। वहीं मामले की पुष्टि करते हुए सिरमौर के पुलिस अधीक्षक अजय कृष्ण शर्मा ने बताया मामले में जांच जारी है। आरोपितों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।