आर्मी भर्ती की लिखित परीक्षा आयोजित ना होने पर पांवटा साहिब में युवाओं ने लगाए केंद्र सरकार के विरोध में नारे #news4
June 16th, 2022 | Post by :- | 100 Views

नाहन : पिछले दो वर्षों से आर्मी भर्ती की लिखित परीक्षा आयोजित ना करने व बार-बार परीक्षा रद्द करने से खफा अभ्यर्थियों ने जिला सिरमौर के पांवटा साहिब में रोष रैली निकाली। साथ ही केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर हल्ला बोला और अग्निपथ टूर आफ ड्यूटी यानी टीओडी गो बैक के नारे भी लगाए। पांवटा साहिब एसडीएम कार्यालय के समक्ष भारतीय किसान यूनियन के हिमाचल अध्यक्ष अनिंदर सिंह नाटी तथा पिछले 2 वर्षों से भारतीय सेना की तैयारियों में जुटे युवाओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

अनिंदर सिंह नाटी ने कहा कि भारतीय सेना में भर्ती होने वाले अधिकतर बच्चे ग्रामीण परिवेश तथा किसानों व मजदूरों के बच्चे हैं। केंद्र सरकार इस तरह युवाओं के साथ धोखा नहीं कर सकती हैं। जिन युवाओं ने पिछले 2 वर्षों में भारतीय सेना का मेडिकल व ग्राउंड टेस्ट क्लियर किया है, उनका लिखित होनी ही चाहिए। उसके बाद अलग से जो अग्निपथ में अग्निवीर भर्ती करने की प्रपोजल रखी है, वह सरकार करें। एसडीएम के माध्यम से राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को जो 2 वर्ष पहले भर्ती शुरू की गई थी, उसे पूरी करने का आग्रह किया गया।

आर्मी भर्ती अभ्यर्थियों का कहना है कि जिन अभ्यर्थियों ने साल 2021 में ग्राउंड क्लीयरेंस के बाद मेडिकल क्लियर कर लिया है, तो बीते डेढ़ साल में लिखित परीक्षा व साक्षात्कार क्यों नहीं किया जा रहा है। अभ्यर्थियों का कहना है कि लिखित परीक्षा के लिए उन्हें कई बार बुलाया गया, मगर आधे रास्ते से ही उन्हें निराश होकर लौटना पड़ा। हर बार लिखित परीक्षाओं की तारीख आगे बढ़ाई गई है, जिससे कई अभ्यर्थियों की आयु ओवर होने लगी है। उनका आर्मी में भर्ती होने का सपना अधूरा रह सकता है। वहीं अभ्यर्थियों का कहना है कि जल्द से जल्द लिखित परीक्षा आयोजित की जाए और लंबे समय से उनके द्वारा की जा रही मेहनत सफल हो सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।