राजधानी शिमला में फुटपाथ पर सजती है दुकान, परेशानी झेलते हैैं राहगीर #news4
November 16th, 2021 | Post by :- | 110 Views

शिमला : शहर में आम लोगों की सुविधा के लिए बनाए फुटपाथ पर तहबाजियों ने दुकानदारी सजा रखी है। इससे लोगों को मजबूरन सड़क पर चलना पड़ता है। इससे करोड़ों रुपये खर्च कर बनाए फुटपाथ का लोगों को लाभ नहीं मिल पा रहा है। शहर में किसी एक स्थान की नहीं, बल्कि हर कोने में यही स्थिति है। यहां पर आमजन के चलने के लिए कभी फुटपाथ बनाए थे ताकि लोग आराम से चल सकें, लेकिन इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। सड़क पर लोगों को चलने से हादसे का खतरा भी सताता रहता है। शहर में केंद्र या राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत फुटपाथ बनाए गए हैं। हालत यह है कि यदि कोई व्यक्ति गलती से फुटपाथ पर चला जाता है तो उन्हें कब्जाधारियों की सुननी पड़ती है।

निगम की कार्रवाई का नहीं असर, टीम के जाते बैठ जाते हैं तहबाजारी

नगर निगम प्रशासन की ओर से हर बार तहबाजारियों को उठाने के लिए बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं। इन्हें उठाने के लिए कई बार निगम की टीमें भेजी जाती हैं। बाजार से इन तहबाजारियों को सामान सहित उठा लिया जाता है। दूसरी तरफ के बाजार में उसी समय वहां से उठे लोग फिर से बैठ जाते हैं। यह सिलसिला रोजाना और हर सप्ताह का हो गया है। न शहर में तहबाजारी कम हो रहे हैं न ही शहर के फुटपाथ खाली हो रहे हैं।

आम आदमी की मांग पर प्रशासन ने करोड़ों रुपये खर्च करके पैदल चलने के लिए फुटपाथ जो बनाए थे वे फिर से कारोबार का अड्डा बन गया है। आम आदमी को सड़क पर तेज रफ्तार चलते वाहनों से बचते हुए ही चलना पड़ रहा है। दूसरे शब्दों में कहें तो सड़क पर चलते हुए आदमी की जान हथेली पर ही रहती है। उसे यह डर सताता रहता है कि कहीं कोई तेज रफ्तार वाहन चलने के लिए जगह नहीं है। प्रशासन के पास इसे खाली कराने का समय तक नहीं हैं।

फुटपाथ पर अवैध रूप से बैठे तहबाजारियों को उठाने के लिए विशेष मुहिम चलाई जाएगी। इसमें जो भी फुटपाथ को कवर करके बैठे होंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

– आशीष कोहली, आयुक्त नगर निगम शिमला।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।