पहले चरण में 40 पंचायतों होंगी ठोस कचरा मुक्त: रोहिणी चैधरी
December 30th, 2019 | Post by :- | 186 Views

कुल्लू जिला में स्वच्छ भारत मिशन-ग्रामीण के तहत अब ठोस-तरल कचरा प्रबंधन पर विशेष जोर दिया जा रहा है। जिला में ठोस कचरे के सही निष्पादन विशेषकर प्लास्टिक संग्रहण के लिए पंचायत स्तर पर एक प्रभावी व्यवस्था बनाई जाएगी तथा पहले चरण में 40 पंचायतों को ठोस कचरा मुक्त बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। सोमवार को जिला स्वच्छ भारत मिशन-ग्रामीण की बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिला परिषद अध्यक्ष रोहिणी चैधरी ने यह जानकारी दी।
उन्होंने कहा कि 102 ग्राम पंचायतों में ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन का प्रोजेक्ट आरंभ किया गया था और इन पंचायतों में कुल 842 कार्य मंजूर किए गए थे। इनमें से 723 कार्य पूरी किए जा चुके हैं, जिन पर चार करोड़ रुपये से अधिक धनराशि खर्च की जा चुकी है। अब इस प्रोजेक्ट में कुछ और पंचायतें भी शामिल की जा रही हैं। इसमें प्रत्येक पंचायत को 7 से 20 लाख तक की धनराशि मिल सकती है। रोहिणी चैधरी ने कहा कि अब हर पंचायत या कुछ पंचायतों के समूह प्लास्टिक कचरा संग्रहण केंद्र बनाए जाने चाहिए। इससे कचरे का सही निष्पादन सुनिश्चित होगा। बैठक में ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन में शामिल विभिन्न ग्राम पंचायतों के संशोधित शैल्फों और कुछ नई पंचायतों के शैल्फों को भी मंजूरी प्रदान की गई। इन कार्यों को गति प्रदान करने के लिए संबंधित विकास खंड अधिकारियों को वर्क आर्डर प्रदान करने की शक्ति देने का निर्णय भी लिया गया।
इस अवसर पर स्वच्छ भारत मिशन के अन्य कार्यों की भी समीक्षा की गई। मिशन के विभिन्न कार्यों का विस्तृत ब्यौरा पेश करते हुए जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी सुरजीत सिंह ठाकुर ने बताया कि जिला में कुल 167 सार्वजनिक शौचालय स्वीकृत किए गए थे, जिनमें से 147 का कार्य पूरा कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि जिला के सभी शिक्षण संस्थानें में शौचालय बनाए जा चुके हैं।
अगर किसी शिक्षण संस्थान में अब भी शौचालयों की आवश्यकता है तो इनका निर्माण मनरेगा के माध्यम से करवाया जा सकता है।
बैठक में जिला उद्यान अधिकारी डा. उत्तम पराशर, जिला कृषि अधिकारी प्रकाश कश्यप, स्वच्छ भारत मिशन के जिला समन्वयक इंद्रदेव, सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग के सहायक अभियंता, उच्चतर शिक्षा विभाग के अधीक्षक गौतम शर्मा और अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।