इन खड्डों में दोपहर बाद बदलने लग जाता है पानी का रंग, जाने क्या हैैं कारण #news4
March 1st, 2022 | Post by :- | 328 Views

कोटला : उपमंडल जवाली की देहर खड्ड के पानी में क्रशर जहर घोल रहे हैं। आलम यह है कि दोपहर 12 बजे तक खड्ड का पानी साफ होता है जबकि दोपहर बाद क्रशरों के चलते से ये मटमैला हो जाता है। देहर खड्ड किनारे कोटला, हरियां, अनुही, गुहन खड्ड में क्रशर लगे हुए हैं। कुछ क्रशर तो नियमों को ताक पर रखकर चल रहे हैं। इनके बिजली के कनेक्शन काट दिए गए हैं, लेकिन यह जेनरेटरों के सहारे ही चलाए जा रहे हैं। अधिकतर क्रशरों में तो क्रशर से निकलने वाले गंदे पानी को स्टोर करने के लिए टंकियों का भी प्रावधान नहीं है तथा क्रशर के गंदे व जहरीले पानी को सीधे खड्ड के पानी में ही मिला दिया जाता है। क्रशर संचालकों द्वारा बाद दोपहर से लेकर देर रात तक जेसीबी व पोकलेन लगाकर सरेआम खनन किया जाता है। जिस कारण सारा दिन पानी मटमैला रहता है। क्रशर मालिकों की मनमानी से देहर खड्ड किनारे स्थित गांवों के लोग काफी परेशान होते हैं। क्रशर संचालकों द्वारा क्रशरों का गंदा पानी भी टैंकों में छोडऩे की बजाय खड्ड के पानी में ही छोड़ दिया जाता है। इन क्रशरों द्वारा खड्ड का सीना छननी कर दिया गया है तथा काफी गहरे गड्ढे खोद रखे हैं।

नियमों को रखा ताक पर

रात के अंधेरे में क्रशर संचालकों की जेसीबी व पोकलेन खड्ड में दनदनाती रहती हैं, जिनके ऊपर प्रशासन-पुलिस व खनन विभाग द्वारा कोई कारगर कार्रवाई अमल में नहीं लाई जाती है। क्रशर संचालकों के तार दूर-दूर तक जुड़े हुए हैं तथा पुलिस-प्रशासन की कार्रवाई से पहले ही क्रशर संचालकों को पता चल जाता है। जेसीबी व पोकलेन से खुदाई करने पर खड्डों के पानी ने अपना रुख बदल लिया है तथा पेयजल स्कीमों का जलस्तर भी काफी नीचे चला गया है। बुद्धिजीवियों के मुताबिक मटमैला पानी होने के कारण उसका उपयोग पशुओं को पानी पिलाने में भी नहीं होता है। बेसहारा पशु भी इस खड्ड में पानी पीने के लिए आते हैं, लेकिन मटमैला पानी होने के कारण प्यासे ही रह जाते हैं। बुद्धिजीवियों ने कहा कि मात्र ट्रैक्टरों के ही चालान किए जाते हैं जबकि क्रशरों का चालान करने की हिम्मत नहीं की जाती है। बुद्धिजीवियों ने मुख्यमंत्री, उद्योग मंत्री, उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक से इनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग उठाई है।

एसडीएम सहित पुलिस को क्रशर मालिकों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। खनन माफिया पर सख्त कार्रवाई के आदेश दिए जाएंगे।

-डाक्टर निपुण जिंदल, उपायुक्त कांगड़ा।

पुलिस को खनन माफिया के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाने के निर्देश दिए गए हैं तथा क्रशरों के भी चालान किए जाते हैं।

-खुशहाल शर्मा, पुलिस अधीक्षक कांगड़ा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।