भारत ने इटली के 10 नागरिकों को ठीक किया, दुनियाभर में हो रही है तारीफ…
March 24th, 2020 | Post by :- | 260 Views
कोरोना वायरस जिसने पूरी दुनिया में हंगामा मचा रखा है और हर देश में इससे जुड़े मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है , भारत में भी यह वायरस बहुत तेजी से फैल रहा है और भारत में भी अब इससे जुड़े मरीजों की संख्या 400 के पार पहुंच चुकी है लेकिन भारत में हाल है के दिनों में कोरोना वायरस के मामले बढ़े हैं. इससे पहले भारत में कोरोना वायरस का ज्यादा प्रभाव नहीं था लेकिन इटली से जो नागरिक भारत आए थे उनमें सबसे पहले कोरोना वायरस के लक्षण पाए गए थे जिसके बाद उन्होंने भारत के दूसरे लोगों में यह संक्रमण फैला दिया ।

इन सभी के बाद भारत ने कड़े प्रतिबंध लगा दिए थे और इटली समेत भारत ने सभी विदेशी नागरिकों के भारत आने पर बैन लगा दिया था भारत ने सभी विदेशियों के वीजा रद्द कर दिए थे लेकिन जब तक भारत ने कड़े कदम उठाए तब तक भारत में इस वायरस के फैलने की शुरुआत हो चुकी थी, लेकिन इस बीच सभी की नजर उन लोगों पर थी जो इटली से भारत आए थे एवं जिनमें यह वायरस सबसे पहले पाया गया था. उन्हें गुड़गाँव के मेदांता हॉस्पिटल मैं रखा गया था और अब उनके लिए खुशखबरी आ रही है।

इटली के मरीज हुए ठीक –
बता दे आपको कि गुड़गाँव के मेदांता हॉस्पिटल के आइसोलेशन वॉर्ड से इटली के 10 नागरिकों को रिकवरी के बाद छुट्टी दे दी गई इन्हें दिल्ली के आईटीबीपी कैंप से यहां लाया गया था. ये तीन हफ़्तों तक मेदांता के आइसोलेशन वॉर्ड में रहे इटली से आए इस समूह में कुल 14 लोग थे और सभी कोरोना वायरस से संक्रमित थे एक व्यक्ति को पहले ही अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी बाकी तीन अभी मेदांता में ही हैं. इनमें से एक वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं ।
दुनिया कर रही है भारत की तारीफ –
इटली के इन मरीजों के ठीक हो जाने के बाद भारत की दुनियाभर में तारीफ़ हो रही है, हर कोई भारतीय डॉक्टरों की सराहना कर रहा है सभी देश भारत की तरफ कर रहे हैं क्योंकि भारत कोरोना वायरस से बहुत ही अच्छी लड़ाई लड़ रहा है. भारत ने अभी तक भी इस वायरस को काबू से बाहर नही होने दिया है, यही वजह है कि दुनियाभर के तमाम देशों में भारत की तारीफें की जा रही है और सभी देश भारत को उदाहरण के तौर पर देख रहे हैं ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।