बेवजह घूमते बाले कर दिए जाएंगे 14 दिन के लिए क्वारंटाइन
March 29th, 2020 | Post by :- | 222 Views

जिला सिरमौर में कही पर भी कफ्र्यू के दौरान कोई व्यक्ति बेवजह घूमता पाया गया, तो उसे 14 दिन तक क्वारंटाइन कर दिया जाएगा। चाहे वो कोरोना वायरस से संक्रमित हो या न हो। रविवार को नाहन में पत्रकारों को संबोधित करते हुये उपायुक्त सिरमौर डॉ. आरके परूथी ने यह जानकारी दी। उपायुक्त ने बताया कि जिला के अंदर व बाहर जाने पर पूर्णत: रोक लगाई गई है। उपायुक्त ने लोगों से अपील करते हुये कहा कि जो लोग जहां पर हैं, वहीं पर रहें। साथ ही इस आपदा की स्थिति में प्रशासन का करें सहयोग करे। दूसरे जिलों से पैदल चलकर जिला में प्रवेश करने वालों को भी क्वारंटाइन में रखा जाएगा।

जिला में क्वारंटाइन के लिए कालाअंब के हिमालयन कॉलेज में 400 बेड सहित मेस की सुविधा शुरू कर दी गई। इसके अतिरिक्त पांवटा साहिब गुरुद्वारा में 200 लोगों के लिए ठहरने की व्यवस्था की गई है। क्वारंटाइन में चौबीस घंटे मेडिकल फैसिलिटी उपलब्ध करवाई जा रही है, जो पुलिस की निगरानी में संचालित होंगे, ताकि कोई भी व्यक्ति वहां से भाग न सके। जिला प्रशासन ने लोगों की सुविधा के लिए फूड हेल्पलाइन व मेडिकल हेल्पलाइन शुरू करने का लिया निर्णय लिया है। साथ ही जरूरत पडऩे पर लोगों को घरद्वार पर सभी सुविधा मिलेगी। उपायुक्त ने जिला सिरमौर में भोजन दान करने वालों से आग्रह किया कि खाना पकाकर देने की बजाय प्रशासन को राशन उपलब्ध करवाएं, ताकि जरूरतमंदों को आवश्यकतानुसार राशन मुहैया करवाया जा सके। आवश्यक सामग्री के परिवहन में लगे वाहनों में दो से अधिक व्यक्ति अगर पाए गए, तो उनके खिलफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

घर पर स्वयं बिताने के लिए मांगे सुझाव, प्रशासन देगा पुरस्कार

उपायुक्त ने लोगों से सुझाव मांगे कि घर में कैसे समय का सदुपयोग कर सकते हैं। सबसे अच्छा सुझाव देने वाले को जिला प्रशासन द्वारा पुरस्कृत भी किया जाएगा। लोग अपने सुझाव सिरमौर पुलिस और डीसी सिरमौर के फेसबुक पेज पर भेजें। उपायुक्त की जिलावासियों से अपील करते हुये कहा कि कफ्र्यू के दौरान घर पर रहे और कोरोना वायरस के संक्रमण से लडऩे में प्रशासन का सहयोग करें। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और एक मीटर की उचित दूरी बनाये रखें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।