धमांदरी, ईसपुर, करमाली व भैरा में दी प्रदेश सरकार की उपलब्धियों की जानकारी
January 9th, 2020 | Post by :- | 186 Views

ऊना, 09 जनवरी:- हर घर को नल योजना के माध्यम से स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवाने तथा हर खेत तक सिंचाई सुविधा पहुंचाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा व्यापक स्तर पर प्रयास किएये जा रहे हैं। प्रधानमंत्री सिंचाई योजना के अतिरिक्त सौर सिंचाई योजना जैसी नई योजनाएं आरंभ की गई हैं। यह जानकारी सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के तत्वाधान में चलाए जा रहे विशेष प्रचार अभियान के तहत पूर्वी कलां मंच, जलग्रां के कलाकारों ने विकास खंड अंब की ग्राम पंचायत भैरा व हंबोली में फोक मीडिया कार्यक्रम के दौरान दी।
इसी कड़ी में आरके कलां मंच के कलाकारों द्वारा विकास खंड ऊना के धमांदरी व पनोह, लोट्स वैलफेयर सोसायटी द्वारा बंगाणा खंड की अरलू खास व करमाली, जीवन म्यूजिकल अणु कलां द्वारा हरोली विकास खंड के ईसपुर में लोगों को गीत संगीत व नुक्कड़ नाटक के माध्यम से सरकारी योजनाओं व नीतियों की जानकारी दी गई।
सांस्कृतिक दलों के कलाकारों ने बताया कि पिछले दो वर्षों के दौरान 7795 हैक्टेयर कृषि योग्य कमांद क्षेत्र को सिंचाई के तहत लाया गया है जिससे प्रदेश में 3.35 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में से 2.77 लाख हैक्टेयर कृषि योग्य कमांद क्षेत्र को सिंचाई सुविधा प्राप्त हुई है। उन्होंने बताया कि हर खेत को पानी उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना आरंभ की गई है जिसके तहत 111 लघु सिंचाई योजनाएं स्वीकृत की गई हैं जिन्हें मार्च 2020 तक पूर्ण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इन योजनाओं पर लगभग 333 करोड़ रूपए खर्च होंगे। उन्होंने बताया कि इन योजनाओं से लगभग 18 हजार हैक्टेयर क्षेत्र लाभान्वित होगा। गत दो वर्षो के दौरान 1914 हैक्टेयर बाढ़ प्रभावित क्षेत्र को सुरक्षित किया गया है। इस अवधि के दौरान 5130 घरेलू पेयजल कनैक्शन भी प्रदान किए गए हैं।
इस अवसर पर एसडीएम ऊना डॉ. सुरेश जसवाल, पनोह की प्रधान सुदेश रानी, उपप्रधान रतन सिंह, बीडीसी अध्यक्षा रानी गिल, धमांदरी के प्रधान बलबीर सिंह, भैरा के प्रधान ज्ञान चंद, उप प्रधान गुरदयाल, वार्ड सदस्य रेखा देवी, रकेश कुमार, पवन कुमार, ईसपुर के वार्ड सदस्य किरण कुमारी, लीला देवी व भोली देवी उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।