हरिपुर तहसील कार्यालय के लिए भवन चयनित करने के निर्देश
July 19th, 2019 | Post by :- | 359 Views

डीसी कांगड़ा ने हरिपुर में लोगों की समस्याएं सुनीं
नंदपुर किला को मिलेगी पहचान, त्रिगर्त उत्सव का हिस्सा बनाने का प्लान
धर्मशाला : उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि हरिपुर तहसील कार्यालय को किसी ओर भवन में शिफ्ट करने की संभावनाओं पर विचार किया जाएगा इस के लिए नए भवन की तलाश करने के दिशा निर्देश एसडीएम को दिए गए हैं। उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि तहसील भवन में जगह कम होने के कारण नए भवन की संभावनाओं पर विचार किया जा रहा है ताकि लोगों तथा कर्मचारियों को कार्य निपटाने में बेहतर सुविधा मिल सके।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने वीरवार को हरिपुर क्षेत्र में विकास कार्यों का निरीक्षण करने के उपरांत बताया कि लोगों की समस्याओं का त्वरित समाधान सुनिश्चित किया जाए ताकि लोगों को बार बार सरकारी कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़ें। इस दौरान उपायुक्त राकेश प्रजापति ने लोगों की समस्याएं भी सुनीं तथा उनका निपटारा करने के दिशा निर्देश भी दिए गए।
इसके उपरांत उपायुक्त राकेश प्रजापति ने नंदपुर किला का निरीक्षण करते हुए कहा कि पर्यटन की दृष्टि से इस क्षे़त्र को विकसित किया जाएगा, नंदपुर किला समृद्व अतीत का साक्षी है ऐसी प्राचीन धरोहरों को सहेजने तथा संवारने के लिए हर कारगर कदम उठाए जाएंगे ताकि इन किलों के माध्यम से युवा पीढ़ी इतिहास के बारे में जानकारी हासिल कर सके।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि कांगड़ा जिला की ऐतिहासिक धरोहरों एवं पुरातन संस्कृति के संवर्धन के लिए त्रिगर्त उत्सव भी आयोजित किया जाएगा इसमें नंदपुर किला में भी कार्यक्रम आयोजित करने पर विचार किया जाएगा ताकि नंदपुर किला के बारे में भी लोगों को जानकारी हासिल हो सके। उन्होंने कहा कि कांगड़ा जिला का पारंपरिक लोक नृत्य, गीतों तथा कांगड़ा चित्रकला को लेकर युवा पीढ़ी को जागरूक करने के लिए जिला प्रशासन की ओर से अनेकों कार्यक्रम आरंभ किए गए हैं वहीं पर इन कार्यों से जुड़ी स्वैच्छिक संस्थाओं को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है।
इस अवसर पर एसडीएम देहरा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी भी उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।