अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा : भगवान रघुनाथ के रंग में रंगी देवभूमि कुल्लू #news4
October 20th, 2021 | Post by :- | 356 Views

कुल्लू : अन्तर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा जिसे देव महाकुम्भ के नाम से भी जाना जाता है। इस अन्तर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा में कई रंग देखने को मिलते हैं। अन्तर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा लोगों के आस्था का केन्द्र है लोग दूर-दूर से यहां पहुंच कर अपने आराध्य देवी-देवताओं का आशीर्वाद ले रहे हैं। बात करें यदि भगवान रघुनाथ की तो यहां ढालपुर स्थित भगवान रघुनाथ के अस्थायी शिविर में भी लाेगों की भारी भीड़ दर्शनों के लिए उमड़ रही है और लोग भगवान रघुनाथ के दर्शन करने के लिए सुबह से ही उनके अस्थायी शिविर में डटे हुए हैं।

लोग भगवान रघुनाथ की हो रही बड़ी पूजा में बढ़-चढ़ कर अपनी उपस्थिति दर्ज करवा कर भगवान रघुनाथ का आशीर्वाद ले रहे हैं। ढालपुर स्थित भगवान रघुनाथ के अस्थायी शिविर में होने वाली भगवान रघुनाथ की पूजा-अर्चना और विधि के बारे में अधिक जानकारी देते हुए भगवान रघुनाथ के मुख्य छड़ीबदार महेश्वर सिंह ने बताया कि भगवान रघुनाथ की यह पूजा पद्धति अयोध्या से लाई गई है और आज भी यह पूजा पद्धति निभाई जा रही है।

उन्होंने कहा कि आज के समय में यह पूजा पद्धति अब समाप्त हो गई है और मॉर्डन तरीके से पूजा हो रही है लेकिन कुल्लू में आज भी इस प्राचीन पद्धति को जीवित रखा गया है। उन्होंने कहा कि भगवान रघुनाथ को रोजाना पूजा-अर्चना के दौरान दिन के हिसाब से वस्त्र धारण करवाएं जाते हैं। सोमवार को श्वेत, मंगलवार को लाल, बुधवार को हरे और बृहस्पति को पीले वस्त्र लगाए जाते हैं और शुक्रवार को फिर श्वेत वस्त्र धारण किए जाते हैं।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।