ITI Admissions: हिमाचल के युवाओं में इलेक्ट्रिीशियन, फिटर, प्लंबर और मोटर मेकेनिक कोर्स करने का क्रेज #news4
May 28th, 2022 | Post by :- | 261 Views

हिमाचल प्रदेश के युवा इलेक्ट्रिीशियन, फिटर, प्लंबर और मोटर मेकेनिक बनने में उत्साह दिखा रहे हैं। हिमाचल प्रदेश के 289 आईटीआई में इन ट्रेड में सबसे अधिक दाखिले हो रहे हैं। नए शुरू हुए ट्रेड सोलर टेक्नीशियन और ट्रेवल एंड टूअर असिस्टेंट को लेकर भी प्रशिक्षुओं में रुझान बढ़ा है। प्रदेश के 289 आईटीआई में 33,546 प्रशिक्षु 60 से अधिक व्यवसायों में प्रशिक्षण ले रहे हैं।  हिमाचल प्रदेश में 138 राजकीय और 151 निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) हैं। 20,596 प्रशिक्षु राजकीय केंद्रों और 12,950 निजी केंद्रों में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। प्रवेश प्रक्रिया के दौरान अभ्यर्थियों ने इलेक्ट्रिीशियन, फिटर, मोटर मेकेनिक, प्लंबर, कंप्यूटर आपरेटर और प्रोग्रामिंग असिस्टेंट के ट्रेड को वरीयता दी है।

कारपेंटर, फूड प्रोडक्शन, सरफेस ओर्नामेंटेशन टेक्निक ट्रेड को लेकर अभ्यर्थियों में रुझान कम हुआ है। 12वीं कक्षा पास करने के पास आईटीआई में दाखिले लेने वाले युवाओं की बीते कुछ वर्षों में संख्या बढ़ी है। युवा ऐसे ट्रेड को वरीयता दे रहे हैं, जिनकी बाजार में अधिक मांग है। इन ट्रेड की शिक्षा लेने के बाद युवा अन्य क्षेत्रों में नौकरियों की तलाश की जगह स्थानीय स्तर पर अपना कारोबार शुरू करने को तवज्जो दे रहे हैं। भारत सरकार भी कई योजनाओं के माध्यम से ऐसे युवाओं को ऋण उपलब्ध करवा रही है।

2,060 सीटों के लिए 33,133 अभ्यर्थियों ने किए आवेदन
इलेक्ट्रिीशियन ट्रेड में प्रदेश के राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में 2,060 सीटें उपलब्ध हैं। शैक्षणिक सत्र 2021-22 के दौरान 33,133 अभ्यर्थियों ने इन सीटों के लिए आवेदन किए थे।

औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में और अधिक रोजगारोन्मुखी ट्रेड शुरू करने के लिए सरकार प्रयासरत है। जल्द ही ड्रोन की मरम्मत को लेकर भी आईटीआई में कोर्स शुरू होंगे। बीते कुछ वर्षों के दौरान आईटीआई में दाखिले के प्रति युवाओं का रुझान बढ़ा है। भाजपा सरकार युवाओं में कौशल विकसित करने के लिए प्रयासरत है।

– डॉ. रामलाल मारकंडा, तकनीकी शिक्षा मंत्री

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।