जेओए पेपर लीक मामला: पुलिस रिपोर्ट के बाद परीक्षा रद्द करने पर फैसला लेगा कर्मचारी चयन आयोग #news4
April 27th, 2022 | Post by :- | 351 Views

जेओए की परीक्षा लेने वाले हिमाचल प्रदेश कर्मचारी चयन आयोग पुलिस रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद परीक्षा को रद्द करने पर विचार कर सकता है। मामला लाखों अभ्यर्थियों के भविष्य से जुड़ा हुआ है। ऐसे में आयोग इसे गंभीरता से ले रहा है। हमीरपुर के सचिव डॉ. जितेंद्र कंवर ने बताया कि इस परीक्षा के साथ प्रदेश के लाखों अभ्यर्थियों का भविष्य जुड़ा है। अभी तक ऐसा कोई आधार नहीं है कि परीक्षा को रद्द किया जाए। वहीं मंडी के दो और ऊना के एक अभ्यर्थी की उम्मीदवारी को रद्द कर दिया गया है। ऊना के एक स्कूल में अभ्यर्थी से परीक्षा केंद्र अधीक्षक ने पर्ची बरामद की थी। वहीं, आयोग ने पेपर लीक मामले में पुलिस अधीक्षक मंडी को चिट्ठी भेजी है। जिसमें पेपर लीक मामले का स्टेटस और जांच रिपोर्ट में क्या निकला। यह पूछा गया है। उन्होंने बताया कि पता किया जाएगा कि प्रश्नपत्र मंडी के संबंधित परीक्षा केंद्र के अलावा पूरा जिला या प्रदेश के अन्य जिलों में शेयर हुआ या नहीं।

दूसरों का भविष्य बताने वाला राकेश खुद पहुंच गया हवालात
परीक्षा में नकल करते धरे गए मुख्य आरोपी राकेश ने पुलिस जांच में खुद को ज्योतिषी भी बताया है। आरोपी के अनुसार वह लोगों के हाथ और मस्तक रेखाएं देखकर भविष्य बताता और खुद एक मंदिर में पुजारी भी है। पेपर देने से पहले उसने काफी पूजा पाठ किया और ग्रह नक्षत्र देखकर पूरा प्लान बनाया और लोगों को अपने साथ जोड़ा। ऐसे में दूसरों का भविष्य देखने वाला राकेश खुद का भविष्य संवारने के चक्कर में हवालात जा पहुंचा, साथ में नौ लोगों को भी सलाखों के पीछे धकेल गया है। उधर, एक अन्य परीक्षार्थी अनित पढ़ाई में काफी अच्छा बता जा रहा है। सूचना के अनुसार उसने नेट -सेट भी क्लीयर कर रखा है।

आरोपियों के बैंक खातों को भी खंगालने में जुटी पुलिस
पैसे के लेनदेन के एंगल पर भी पुलिस काम कर रही है। दोस्ती और रिश्तेदारी के अलावा पुलिस को शक है कि इसमें पैसे का लेनदेन भी हुआ है। पेपर से एक दिन पहले सीटिंग प्लान लीक करने वाले एमएसएलएम सुंदरनगर कॉलेज के क्लर्क पर शक की सूई घूम रही है। लिहाजा पुलिस आरोपियों के बैंक खाते खंगालने में भी जुटी है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।