करमापा ने की स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की सराहना, संकटकाल में बौद्ध अनुयायी करेंगे विशेष प्रार्थना
April 15th, 2020 | Post by :- | 171 Views

17वें करमापा अवतार उग्येन त्रिनले दोरजे ने स्वास्थ्य कार्यकर्त्ताआें के प्रयासों की सराहना की है। अपने फेसबुक पेज के माध्यम से उन्होंने दुनिया भर में कोरोना वायरस को लेकर चर्चा की तो सभी के प्रयासों की सराहना भी की। उन्होंने कहा भले ही आज संकट सबके सामने है, लेकिन हमें अपनी सुझबूझ के साथ ही इसका सामना भी करना होगा।

बुद्ध के जीवन के संदेश पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि सत्य की विफलता मानवीय पतनशीलता हमारे दुख का कारण है। जब चीजें हमारे रास्ते पर जाती हैं, तो हम खुश और आशावादी होते हैं। हालांकि, जब यह विपरीत होता है तो हम इससे निपटने में असमर्थ होते हैं। लेकिन हमें एक सकारात्मक दृष्टिकोण से आगे बढ़ना है।

उन्होंने कहा एक देश में एक भी संक्रमित व्यक्ति पूरी दुनिया को खतरे में डालता है। इसलिए महामारी को दूर करने के लिए सहयोग जरूरी है। करमापा ने अपने बौद्ध अनुयायियों से भी आग्रह किया है कि इस संकट से उभरने के लिए एक सप्ताह के लिए शनिवार से एक घंटे की दैनिक प्रार्थना करें।

ग्यूतो मॉनेस्टरी ने राहत कोष में दिए तीन लाख

ग्यूतो तांत्रिक मॉनेस्टरी की ओर से तीन लाख रुपये मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए दिए हैं। ग्यूतो तांत्रिक मॉनेस्टरी के कार्यकारी सचिव वेन पकसम ग्यात्सो ने बताया कि संकट की इस घड़ी में हम भी सरकार के साथ हैं। उन्होने कहा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित प्रदेश में भी मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर कोरोना की रोकथाम को लेकर कई कदम उठा रहें, जो सराहनीय है। उन्होंने आशा व्यक्त की है कि देश इस महामारी से शीघ्र बाहर होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।