कोविड-19: कैब ड्राइवर ने अपनी चार टैक्सी और पत्नी के गहने बेचकर खड़ा कर दिया अस्पताल, कहा- बना लें आइसोलेशन सेंटर
April 10th, 2020 | Post by :- | 229 Views

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से बचाने के लिए पश्चिम बंगाल में एक कैब ड्राइवर ने मानवता की मिसाल पेश की है। कैब ड्राइवर ने अपनी बहन की याद में अस्पताल बनाने के लिए अपनी चार टैक्सी और पत्नी के गहने बेचकर अस्पताल खड़ा कर दिया है। अस्पताल तैयार करने के बाद अब कैब ड्राइवर ने अस्पताल में पश्चिम बंगाल सरकार को कोविड-19 के लिए आइसोलेशन सेंटर बनाने का ऑफर दिया है, जो कि 50 बेट की सुविधा प्रदान करेगा।

बता दें कि पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस के 116 मामले सामने आ चुके हैं। इसमें 95 एक्टिव मरीज है जबकि 16 लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं। इसके अलावा राज्य में कोरोना वायरस से पांच लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या दिन पर दिन बढ़ रही है। वहीं पूरे देश में कोरोना वायरस से संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 37 लोगों की मौत, 896 नए मामले आए।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक भारत में विदेशी नागरिकों सहित कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित होने वालों की संख्या शुक्रवार (10 अप्रैल) को बढ़कर 6,761 हो गई है। मंत्रालय ने शुक्रवार को जारी आंकड़ों में कहा कि देश में कोविड-19 संक्रमण के चलते 206 मौतें हुई हैं और वर्तमान में कुल 6,039 व्यक्ति महामारी से संक्रमित हैं। वहीं, पिछले 24 घंटे में कोरोना के 896 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 37 लोगों को इस वायरस की वजह से अपनी जान गंवानी पड़ी है और 515 मरीज अब तक इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं।

मंत्रालय ने ने कहा, “महाराष्ट्र में सबसे अधिक 97 मौतें हुई हैं और वहीं, गुजरात में संक्रमण के चलते 17 लोगों की जान गई है। अब तक उपचार के बाद पूर्ण रूप से स्वस्थ हुए 515 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।” देश के 27 राज्य और सभी केंद्र शासित प्रदेशों में से कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक मामले 1,364 महाराष्ट्र से ही आए हैं। इसके बाद 898 मामलों के साथ दिल्ली दूसरे, जबकि 834 मामलों के साथ तमिलनाडु तीसरे स्थान पर है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।