बद्दी के निजी अस्पताल के रिसेप्शनिस्ट व लैब तकनीशियन में कोविड-19 की पुष्टि….
April 11th, 2020 | Post by :- | 179 Views

शिमला – प्रदेश के बद्दी में दो नए कोरोना के मामले सामने आए हैं। पीजीआई में दम तोड़ने वाली स्टील वर्ल्ड कंपनी के डायरेक्टर की पत्नी के संपर्क में आएदो व्यक्ति कोरोना पीडि़त पाए गए हैं। इसकी पुष्टि आईजीएमसी शिमला की लैब में देर रात को हुई है। दम तोड़ने वाली महिला को झाड़माजरी के निजी अस्पताल में 31 मार्च को ले गए थे। इस दौरान निजी अस्पताल के रिसेप्शनिस्ट और लैब तकनीशियन महिला के क्लोज कांटेक्ट में आए थे। इन दोनों में कोरोना के लक्षण पाए गए हैं। हालांकि हिमाचल में तीन कोरोना पीडि़त स्वस्थ भी हो गए हैं। इसके अलावा तीन और मरीजों की पहली रिपोर्ट नेगेटिव आ गई है। इसके चलते हिमाचल में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या अब 21 से घटकर 18 हो गई थी, लेकिन दो नए मामले आने से यह आंकड़ा फिर 20 पर पहुंच गया है और प्रदेश में कुल कोरोना के मामले 30 हो गए हैं। ऊना की नकड़ोह मस्जिद के कोविड-19 संक्रमित तीनों जमाती कोरोना मुक्त हो गए हैं। लगातार दो सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर तीनों जमातियों को अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी। इन तीनों मरीजों में कोरोना के लक्षण पाए जाने की तीन अप्रैल को पुष्टि हुई थी। इस आधार पर इन्हें टांडा मेडिकल कालेज में भर्ती करवाया गया था। इसके अलावा नालागढ़ की मस्जिद के कोरोना पॉजिटिव हुए तीनों जमातियों की भी पहली रिपोर्ट नेगेटिव हो गई है। उनकी शनिवार को दूसरी रिपोर्ट नेगेटिव आने पर उन्हें भी अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। हालांकि इसके लिए दूसरी रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आना जरूरी है। इन तीनों जमातियों में चार अप्रैल को कोरोना के लक्षण पाए गए थे। इसके चलते इनका उपचार आईजीएमसी शिमला में चल रहा है। खास बात यह है कि प्रदेश के छह जिलों मंडी, कुल्लू, बिलासपुर, हमीरपुर, लाहुल और किन्नौर में अभी तक कोई मरीज सामने नहीं आया है। शुक्रवार को प्रदेश के तीनों स्वास्थ्य संस्थानों आईजीएमसी, टीएमसी तथा सीआरआई कसौली में कुल 164 कोविड-19 जांच के सैंपल पहुंचे थे। इनमें से 127 मामलों की जांच की प्रक्रिया शुरू की गई। देर शाम तक इनमें 107 मामलों की जारी हुई रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है। टांडा के कुल 105 सैंपल में से 73 की जारी हुई रिपोर्ट में सभी सैंपल नेगेटिव पाए गए हैं। ऊना जिला के सभी 40 सैंपल नेगेटिव पाए गए हैं। इसके अलावा चंबा जिला के 37 में से 33 नमूनों की रिपोर्ट भी नेगेटिव आई है। चार सैंपल तकनीकी खराबी के चलते रिजेक्ट हो गए हैं। इन्हें नए सिरे से लिया जाएगा। कांगड़ा, धर्मशाला तथा टांडा मेडिकल कालेज से लिए गए सैंपल भी नेगेटिव पाए गए हैं। सीआरआई कसौली के सभी 18 सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। ये सभी सैंपल नालागढ़ इलाके थे। इसके अलावा शुक्रवार को आईजीएमसी शिमला में 41 सैंपल जांच के लिए लगाए गए, जिनमें से 38 की रिपोर्ट नेगेटिव आ गई थी। स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आरडी धीमान ने खबर की पुष्टि करते हुए बताया कि ऊना के नकड़ोह मस्जिद के तीनों जमातियों की लगातार दोनों रपोर्ट नेगेटिव हो गई हैं। कोरोनामुक्त होने के कारण इन्हें अस्पताल से छुट्टी दी जा रही है। उन्होंने बताया कि आईजीएमसी शिमला में दाखिल कोविड-19 पॉजिटिव तीन लोग, जोकि जिला सोलन के हैं, के नमूनों की फिर जांच की गई, जोकि नेगेटिव पाई गई है। प्रदेश में अब तक कुल 900 लोगों की जांच की जा चुकी है। इनमें से 832 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव पाई जा चुकी है। अभी तक प्रदेश में 28 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई जा चुकी है। इनमें से पांच लोग इलाज के उपरांत स्वस्थ हो चुके हैं, चार लोग प्रदेश के बाहर इलाज के लिए जा चुके हैं एवं एक व्यक्ति का देहांत हो चुका है और शेष 18 लोगों का प्रदेश में इलाज चल रहा है। अभी तक प्रदेश में कुल 5200 लोगों को निगरानी में रखा गया हैं और जिनमें से 2785 लोगों ने 28 दिन की जरूरी निगरानी अवधि को पूरा कर लिया है, एवं स्वस्थ हैं। प्रदेश में चल रहे एक्टिव केस फाइंडिंग कैंपेन के अंतर्गत शुक्रवार को रिपोर्ट लिखे जाने तक लगभग 65 लाख से अधिक लोगों की मौखिक जांच की जा चुकी है। इन सभी लोगों को जरूरत के हिसाब से निगरानी में रखा जा रहा है। अतिरिक्त मुख्य सचिव ने आग्रह किया है कि किसी को भी घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि प्रदेश सरकार पूरी तरह से सजग एवं सतर्क है। उन्होंने सभी से लॉकडाउन के दौरान घर में रहने का ही अनुरोध किया एवं विभाग द्वारा जारी विभिन्न दिशा-निर्देशों जैसे कि समय-समय पर हाथ धोना, परस्पर उचित दूरी बनाए रखना एवं खांसते, छींकते समय शिष्टाचार का पालन करने के लिए अनुरोध किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।