आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शिमला द्वारा ग्राम पंचायत दुधहलटी में महिलाओं के लिए कानूनी जागरूकता कार्यक्रम का किया आयोजन .. #news4
November 10th, 2021 | Post by :- | 157 Views

शिमला, 10 नवंबर : जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शिमला ने आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत ग्राम पंचायत दुधहलटी में महिलाओं के लिए कानूनी जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया। इस शिविर में जबलोग, रौड़ी, पनेश, ढाण्डा, झाझिया, बनूटी, फटेची, भरोई गांव की महिलाओं ने भाग लिया। इस शिविर में आशावर्कर, महिला मंडल के सदस्य, प्रधान, उप-प्रधान, बी डी सी मैम्बर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता तथा महिला अध्यापक मौजूद थे। मौजूद व्यक्तियों को महिला अधिवक्ताओं ने भी जानकारी दी।

शिविर के माध्यम से लोगों को मौलिक अधिकार, मूल कर्तव्य, संवैधानिक उपचार, घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम, 2005 महिलाओं के विरूद्ध अपराध, अम्ल हमला, दहेज मृत्यु, आत्महत्या का दुष्प्रेरण, दहेज प्रतिषेध अधिनियम, 1961, लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम, महिलाओं का कार्यस्थल पर लैंगिक उत्पीडन (निवारण प्रतिषेध और प्रतितोष) अधिनियम, 2013, गर्भ का चिकित्सकीय समापन अधिनियम, 1971, गर्भ धारण पूर्व और प्रसव पूर्व निदान-तकनीक (लिंग चयन प्रतिषेध) अधिनियम, 1994, गिरफ्तार एवं बंदी महिलाओं के अधिकार, संदिग्ध और गिरफ्तार व्यक्तियों के अधिकार, बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम, 2006, माता पिता और वरिष्ठ नागरिकों का भरण पोषण, रख-रखाव तथा कल्याण अधिनियम, 2007, विधिक सेवा प्राधिकरण अधिनियम, 1987 के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। लोगों ने आई. ई. सी. मैटिरियल में विशेष रूचि दिखाई तथा इस बारे में जानकारी प्राप्त की।

अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शिमला रमणीक शर्मा ने उपस्थित महिलाओं को घरेलू अपराध अधिनियम, महिलाओं के घरेलू हिंसा विशेष अधिनियम, यौन उत्पीड़न मुआवजा योजना, मुफ्त कानूनी सहायता, मध्यस्थता, लोक अदालत, स्थायी लोक अदालत के बारे में जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि इसके अलावा जिला शिमला के विभिन्न भागों में विधिक साक्षरता को बढ़ाने तथा लोगों को उनके कानूनी अधिकारों के बारे में जागरूक करने के लिए हज़ारों पैम्पलेट बंटवाये गये हैं।
.0.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।