रिश्ते में आते ही बदल जाती है जिन्दगी, लडक़े-लडक़ी के व्यवहार में होता है बदलाव #news4
October 7th, 2022 | Post by :- | 80 Views

जब तक हम अकेले होते हैं अपनी जिन्दगी को अपने मन मुताबिक जीते हैं। बेफिक्र होकर अपना समय गुजारते हैं। न कोई समय सीमा न कोई बंधन। लेकिन जैसे ही हमारी जिन्दगी में किसी दूसरे का प्रवेश होता है, हमारी जिन्दगी में बदलाव आने लगता है। शुरू-शुरू में यह बदलाव नजर नहीं आते लेकिन थोड़े अंतराल के बाद इन बदलावों को न सिर्फ महसूस करते हैं अपितु यह जगजाहिर हो जाता है कि हमारे में बदलाव आ चुका है। जी हां, रिश्ते में आते ही न सिर्फ व्यवहार में परिवर्तन होता है अपितु मिजाज भी बदल जाता है। यह बदलाव लडक़े व लडक़ी दोनों में होता है। आप चाहे कितना ही मना कर लें कि किसी के आने से उनकी जिंदगी में कोई बदलाव नहीं आएंगे, लेकिन असलियत कुछ ओर ही होती हैं। ये बदलाव उनके रिश्ते के लिए अच्छे ही साबित होते हैं, लेकिन जो इन्हें अपना नहीं पाता उनका रिश्ता विवादों में ही रहता है।
आइए डालते हैं एक नजर उन बदलावों पर जो रिश्ते में आने के बाद हर युवा की जिन्दगी में आते हैं—

प्राथमिकता बदलना
शादी के बाद या रिलेशनशिप में आने के बाद कपल की प्राथमिकताएं भी बदलने लगती हैं। पहले दोस्त और ऑफिस उनकी प्राथमिकता हो सकते हैं, लेकिन रिश्ते में जुडऩे के बाद पार्टनर उनकी प्राथमिकता बन जाता है।

बदल जाता है रूटीन
शादीशुदा हों या डेटिंग कर रहे हों, कपल की रूटीन बदल जाती है। लोग अपने पार्टनर के समय के साथ तालमेल बिठाने लगते हैं। जैसे अगर शादी हो गई है, तो पति-पत्नी के सुबह सोकर उठने का समय, साथ नाश्ता करने या शाम में एक साथ बैठकर चाय पीने और बातें करने का समय एक हो जाता है। ऐसे ही डेटिंग कर रहे कपल भी पार्टनर के वक्त के मुताबिक खुद को उनके साथ समय बिताने के लिए फ्री कर लेते हैं।

कम हो जाता है तनाव
अपने पार्टनर के साथ किसी भी प्रकार का शारीरिक संपर्क आपके स्ट्रेस के लेवल को कम करने के साथ-साथ आपके मन और शरीर से किसी भी प्रकार की व्यग्रता को दूर करके उसे रिलैक्स कर सकता है। जब व्यक्ति प्यार में होता है, तो उसका मन अपने पार्टनर की मौजूदगी में रिलैक्स रहता है और आप उनकी बाहों में या उनके बगल में आराम करने के लिए खुद को पर्याप्त कंफर्टेबल महसूस करते हैं।

बदल जाती हैं आदतें
रिश्ते में होने पर आप सभी मौजूदा बुरी आदतों को छोड़ देते हैं। आपका पार्टनर आपको इतने अच्छे तरीके से प्रभावित करता है कि आप अंतत: उन चीजों को गले लगाना शुरू कर देते हैं, जिनसे आप अब तक डरते थे। चाहे वह आपको जिम जाने के लिए प्रोत्साहित करने के बारे में हो या उस शौक को पूरा करने के बारे में, जिसके लिए आप कभी समय नहीं निकाल पाते थे। प्यार में पडऩे के बाद कपल्स जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखने के लिए एक-दूसरे को बहुत प्रभावित करते हैं।

सिंगल लाइफ में लडक़े या लडक़ी पर कोई जिम्मेदारी नहीं होती, लेकिन कपल बनने के बाद उनके लिए पार्टनर जिम्मेदारी बन जाता है। पार्टनर की इच्छाओं, जरूरतों का ख्याल रखना पार्टनर के जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाता है।

खुद की पर्सनलिटी को निहारना
जो लोग रिलेशनशिप में आते हैं उनमें अचानक से आइने के सामने खड़े होने और खुद को निहारने का शौक पनप जाता है। शीशे के सामने घंटों खड़े होकर खुद को निहारना उनकी आदत का हिस्सा बन जाता है। वो खुद को इस तरह देखते हैं जैसे इससे पहले उन्होंने खुद को देखा ही न हो। आईने के सामने खड़े होकर खुद को अलग-अलग एंगल से देखना और फिर अपने पार्टनर के बारे में सोचना उनके व्यवहार का हिस्सा बन जाता है।

पसंद का बदलना
अक्सर जो चीजें हमें सिंगल होने पर पसंद नहीं होती, वह शादी के बाद पार्टनर के लिए पसंद आने लगती हैं। जैसे जिन लडक़ों को एक्शन फिल्में पसंद होती हैं, वह पार्टनर के साथ सिनेमा हॉल जाने पर गर्लफ्रेंड की पसंद की रोमांटिक मूवी देखने के लिए एक्शन फिल्म छोड़ देते हैं।

नोट—यह लेखक के अपने निजी विचार हैं। जरूरी नहीं है कि आप इन विचारों से सहमत हों।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।