सुंदरनगर नलवाड़ मेला : सांस्कृतिक संध्याओं में स्थानीय व हिमाचली कलाकारों को मिलेगी तवज्जो, विधायक ने ये भी निर्देश दिए #news4
February 14th, 2022 | Post by :- | 192 Views

सुंदरनगर : मंडी जिले के सुंदरनगर में इस बार आयोजित होने वाले राज्यस्तरीय नलवाड़ मेले की सांस्कृतिक संध्याओं में हिमाचली कलाकारों को अधिमान दिया जाएगा। इसमें सुंदरनगर से संबंधित कलाकारों को प्राथमिकता दी जाएगी।

नलवाड़ मेला और देवता के आयोजन को लेकर आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए विधायक राकेश जम्वाल ने कहा कि प्रयास किया जाएगा कि नलवाड़ मेले के समापन या देवता मेले के शुभारंभ मौके पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर बतौर मुख्यातिथि शिरकत करें। सरकारी योजनाओं का लाभ आम जनमानस तक पहुंचाने के लिए मेला मैदान में ही लोगों का पंजीकरण हिम केयर योजना के तहत किया जाएगा। यह भी प्रयास रहेगा कि लोगों को सहारा योजना की जानकारी भी यहां लगने वाली प्रदर्शनी के माध्यम से मिले।

उन्होंने अधिकारियों को मेले के आयोजन से पहले शहर की सड़कें चकाचक करने और स्ट्रीट लाइटों की व्यवस्था बेहतर करने के निर्देश दिए। 22 से 28 मार्च तक चलने वाले राज्यस्तरीय नलवाड़ मेले के बाद छह से 10 अप्रैल तक होने वाले राज्यस्तरीय देवता मेला के बाद भी व्यापारियों द्वारा दुकानें एक-एक महीना तक लगाई जाती है। जिस कारण स्थानीय व्यापारियों को नुकसान होता है। ऐसे में मेले के समापन के बाद व्यापारियों को एक सप्ताह के भीतर मेला मैदान को खाली करवाया जाए। इस मौके पर एसडीएम धर्मेश रामोत्रा, बीडीओ सुरेंद्र कुमार, नगर परिषद अध्यक्ष जितेंद्र चंदेल, ओपी नायक, अनिल गुलेरिया, डा. चमन ङ्क्षसह ठाकुर, सभी पार्षद और विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

चालान के बजाय लोगों को जागरूक करे पुलिस

राकेश जम्वाल ने कहा कि मेले के दौरान यातायात को सुचारू रखना पुलिस का कार्य है। पुलिस अधिकारी व कर्मचारी इस दौरान चालान करने के बजाय लोगों को यातायात को लेकर जागरूक करे। विश्राम गृह चौक से लेकर पुराना बस अड्डा तक लोग अपने वाहनों को बीच के रास्तों से न घुमाएं, इसका भी विशेष ध्यान रहे। क्योंकि ऐसी स्थिति में जाम लगने की संभावना रहती है।

80 फीसद हो चुके कार्यों को शीघ्र पूरा करे विभाग

विभागीय अधिकारी सुनिश्चित करें कि प्रदेश सरकार के जो विकास कार्य 80 फीसद तक हो गए हैं उन्हें 31 मार्च तक पूर्ण करने का प्रयास करें।

देवताओं के ठहराव व भोजन की हो उचित व्यवस्था

विधायक राकेश जम्वाल ने कहा कि देवता मेले में आने वाले देवताओं और उनके देवलुओं के रात्रि ठहराव के साथ भोजन की भी उचित व्यवस्था हो। ठहराव के लिए बेहतर स्थान चिन्हित किया जाए। मेले के दौरान बिना टैगिंग वाले पशुओं के प्रवेश को रोकने के लिए विशेष चेङ्क्षकग अभियान भी चलाया जाए। क्योंकि देखा गया है कि अक्सर मेले की आड़ में लोग पशुओं को बेसहारा छोड़ जाते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।